अगर आप भी करते हो कोलकाता मेट्रो में सफर तो ये खबर आपके लिए

शेयर करे

कोलकाता : भारत की पहली मेट्रो कोलकाता मेट्रो जल्द ही एक और उपलब्धि हासिल करने जा रही है। यह भारतीय रेलवे में पहली बार यात्रियों को तेज और आरामदायक यात्रा प्रदान करने के लिए नई प्रौद्योगिकियों, नवीन विचारों और नदी के नीचे ट्रेनों को चलाने में अग्रणी रहा है। अब कोलकाता मेट्रो एक और नई तकनीक पेश करने की तैयारी कर रही है जो यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और ऊर्जा खपत में सुधार करने के लिए देश में अपनी तरह की एक और पहल होगी। इको-फ्रेंडली तरीके से यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अब मेट्रो रेलवे जल्द ही ब्लू लाइन के सेंट्रल सब-स्टेशन पर बैटरी एनर्जी स्टोरेज सिस्टम (बीईएसएस) लगाने जा रहा है। इनवर्टर और एडवांस्ड केमिस्ट्री सेल (एसीसी) बैटरियों का मिश्रण, यह नई प्रणाली अचानक बिजली कटौती या ग्रिड विफलता की स्थिति में चमत्कार करने में सक्षम है। 18,000 करोड़ रुपये की इस योजना की परिकल्पना मेट्रो रेलवे में की गई है, पहली बार भारतीय रेलवे के सभी जोनों के साथ-साथ भारत में अन्य सभी मेट्रो प्रणालियों में, इलेक्ट्रिक गतिशीलता और बैटरी भंडारण के लिए इको-सिस्टम को मजबूत करने के लिए सीमेंस, तोशिबा, डेल्टा और ईटन जैसी विदेशी बहुराष्ट्रीय कंपनियां पहले ही इस महत्वाकांक्षी परियोजना को लागू करने के लिए कोलकाता मेट्रो के साथ काम करने की उत्सुकता व्यक्त कर चुकी हैं।

 

इन कंपनियों के साथ प्री-बिड मीटिंग करने के बाद मेसर्स डेल्टा इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड को खुली बोली प्रक्रिया के जरिए ऑर्डर दिया गया है। इस नये सिस्टम को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि इससे उत्पन्न बिजली का उपयोग किसी भी बिजली विफलता या यहां तक ​​कि राष्ट्रीय ग्रिड विफलता के मामले में टनल से अगले स्टेशन तक 30 किमी/घंटा की गति से यात्री पैक फंसे हुए रेक को खींचने के लिए किया जा सकता है। यह वास्तव में एक बड़ी प्रगति है क्योंकि यात्रियों से भरी ट्रेनों को बिजली बाधित होने की स्थिति में बिजली आपूर्ति बहाल करने के लिए अंडरग्राउंड टनल या ब्रिज पर इंतजार नहीं करना पड़ेगा। इस सिस्टम की मदद से हजारों यात्रियों को सुरक्षित पहुंचाया जा सकता है। रेलवे बोर्ड ने इस पर्यावरण-अनुकूल परियोजना के सुचारू कार्यान्वयन के लिए पर्याप्त धन भी उपलब्ध कराया है। हरित बैटरियों से सुसज्जित और लगभग 14 वर्षों के जीवनकाल वाली इस नई प्रणाली को स्थापित करने के लिए लगभग 106 वर्ग मीटर जगह की आवश्यकता होगी। यह बेहतर ऊर्जा दक्षता, लंबे जीवन के साथ कार्बन पदचिह्न को कम करने वाला है और स्वास्थ्य संबंधी खतरों के बिना कम जगह घेरता है।

Visited 29 times, 1 visit(s) today
1
0

Leave a Reply

मुख्य समाचार

कोलकाता : मेट्रो रेलवे द्वारा चलाये जा रहे स्पेशल नाइट मेट्रो के समय को 20 मिनट कम कर दिया गया
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी के पास 17 जून को हुए ट्रेन हादसे ने देशवासियों को झकझोर कर रख
कोलकाता : अगले दो से तीन घंटों में कोलकाता में हल्की बारिश होने वाली है। शहर के अधिक हिस्सों में
पटना: नीट पेपर लीक मामला पूरे देशभर में छाया हुआ है। बिहार के डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने बड़ा दावा
कोलकाता : मानसून दस्तक देने वाला है। इससे पहले इसे लेकर तैयारियों को पूरा करने का निर्देश शहरी विकास तथा
कोलकाता: मौसम विभाग के पूर्वानुमान पर लोगों का भरोसा खत्म हो गया है। पिछले कुछ दिनों से बारिश का पूर्वानुमान
पटना: नीतीश सरकार को पटना हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। बिहार में आरक्षण का दायरा बढ़ाए जाने के नीतीश
नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
ऊपर