Cyclone Remal : चक्रवात गुजर गया लेकिन जिलों में छोड़ गया गहरा निशान

शेयर करे

सीएम ने ली स्थिति का जायजा
मुख्यमंत्री ने सुंदरबन और राज्य के अन्य तटीय इलाकों में चक्रवात रेमल के प्रभाव पर गहरी चिंता व्यक्त की और स्थिति का जायजा लिया। ममता ने चक्रवात से हुई तबाही और उसके बाद की स्थिति से निपटने के लिए किए जा रहे उपायों का आकलन करने के लिए मुख्य सचिव बी पी गोपालिका से बात की। नुकसान के प्रभाव क्षेत्र और स्थिति सामान्य करने के प्रयासों की प्रगति के बारे में भी जानकारी ली। एक अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार ने आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) के अनुसार मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने का फैसला किया है।
राज्य सरकार ने संभाला मोर्चा, प्रशासनिक कार्य से संतुष्ठ हुईं सीएम
चक्रवात रेमल से जिलों में काफी नुकसान हुआ। बंगाल के 9 जिलों पर अधिक असर पड़ा। चक्रवात गुजर गया लेकिन अपना असर दिखा गया। रविवार की रातभर टांडव के बाद भी सोमवार की सुबह से ही राज्य के विभिन्न जिलों में बारिश हुई। कुछ जगहों पर भारी बारिश तो कुछ जगहों पर मध्यम बारिश के साथ ही हवा भी चली। प्रभावितों की सहायता के लिए राज्य सरकार पूरी तरह से तत्पर हो गयी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रेमल से प्रभावित परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की हैं। सीएम ने चुनाव के बाद शोक संतप्तों और पीड़ितों को वित्तीय सहायता का आश्वासन दिया।

नवान्न से रखी जा रही है स्थिति पर नजर : नवान्न से पूरी स्थिति पर नजर रखी जा रही है। विद्युत, पीडब्ल्यूडी, कृषि, परिवहन सहित विभिन्न विभागों के कंट्रोल रूम से सीधे सम्पर्क किया जा रहा है। नवान्न में सेंट्रलाइज कंट्रोल रूम अलग अलग जिलों से सम्पर्क किया जा रहा है। रविवार से ही यह कार्य किया जा रहा है। विभागीय अधिकारी अपने अपने स्तर पर जिलाधिकारियों से लगातार सम्पर्क में रहे।

तटीय इलाकों में बुनियादी ढांचे और संपत्ति को व्यापक नुकसान : अधिकारियों ने कहा कि बंगाल के तटीय इलाकों में बुनियादी ढांचे और संपत्ति को व्यापक नुकसान हुआ। क्योंकि चक्रवात रेमल के कारण 135 किमी प्रति घंटे की गति से हवाएं चली हैं। चक्रवात ने कोलकात सहित उत्तर व दक्षिण 24 परगना, हावड़ा, हुगली, मिदनापुर, मुर्शिदाबाद, बर्दवान समेत नौ जिलों को प्रभावित किया है। रविवार के साथ ही सोमवार को तेज हवा के साथ भारी बारिश हुई। काफी नुकसान हुआ है। किसी के सिर पर पेड़ गिर गया, किसी के सिर पर घर का कंगनी टूट गया, तो कोई करंट लगने से मर गया। इतना ही नहीं, तूफान से होने वाले नुकसान की मात्रा भी बहुत ज्यादा है। चक्रवात रेमल रविवार रात बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तट से टकराया। यह तूफान बांग्लादेश के मोंगला से सागर द्वीप और खेपुपारा के बीच पहुंचा। लैंडफॉल की प्रक्रिया करीब चार घंटे तक चली। चक्रवात से तटीय इलाकों में नुकसान हुआ है।

Visited 23 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
गया: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बुधवार(19 जून) को बिहार के राजगीर में ऐतिहासिक नालंदा यूनिवर्सिटी के नए कैंपस का
कोलकाता : कोलकाता शहर में एक बार फिर बम से उड़ाने की नकली धमकी दी गयी। इस बार एसएसकेएम जैसे
कोलकाता : अब इंतजार की घड़िया खत्म हो गई है। बंगाल में कई दिनों तक बारिश का पूर्वानुमान जारी किया
कोलकाता : बस्ती में रहने वाले लोग भी सम्मान के साथ रहें, उन्हें बस्तीवाले कहकर न पुकारा जाये इसलिए मुख्यमंत्री
कंचनजंघा एक्सप्रेस दुर्घटना में रेल डाक सेवा कर्मचारी की मौत कोलकाता : सोमवार की सुबह 8.30 बजे का वक्त। न्यू
नई दिल्ली: मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा का विशेष महत्व है। कहा जाता है कि आर्थिक समस्याओं से
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने आज सोमवार(17 जून) सुबह राजभवन में तैनात कोलकाता पुलिस के कर्मियों
ऊपर