Durga Puja 2023 : कोलकाता से विदेश भेजी जा रही इस चीज से बनी मां दुर्गा की प्रतिमा

शेयर करे

कोलकाता : जब कूरियर कंपनी का डिलिवरी ब्वॉय कुम्हारटोली पहुंचा तो उसे विश्वास ही नहीं हुआ कि उसके सामने जो पैकेट रखी है उसमें दुर्गा मां की प्रतिमा है क्योंकि पैकेट का वजन महज 70 किलो दिखा रहा था। उसने दोबारा चेक किया तो पैकेट उतने ही किलो का दिखा, तब जाकर उसकी नजर बगल में बन रही दुर्गा मां की प्रतिमा पर पड़ी तो उसने देखा के मूर्तिकार एक और ऐसी मूर्ति बना रहा था जो देखने में खुबसूरत थी व हल्की दिख रही थी। आमतौर पर कुम्हारटोली के मूर्तिकार जो मूर्तियां विदेश भेजते हैं वे उन मूर्तियों को फाइबर ग्लास से बनाते हैं। लेकिन सभी कलाकारों से अलग हैं वहां मौजूद कलाकार पशुपति रुद्रपाल जिन्होंने विदेशों में मूर्तियों की आपूर्ति के लिए समाचार पत्रों से मूर्तियां बनाईं।

पेपर पल्प का उपयोग कर बना डाली मां दुर्गा की मूर्ति
साल भर अखबारों से पेपर पल्प बनाई जाती है। पशुपति ने उस पल्प से मूर्तियां बनाईं और उन्हें दुबई और ओमान की राजधानी मस्कट में भेजा। फाइबर ग्लास से मूर्ति बनाने की तुलना में पेपर पल्प से मूर्ति बनाना अधिक श्रमसाध्य है। इसमें अधिक समय लगता है, फिर भी वे पेपर पल्प से ही मूर्तियां बनाना पसंद करते हैं। उन्होंने कहा, ”जो लोग फाइबर की मूर्तियां लेकर जाते हैं, वे कई सालों तक उस मूर्ति का इस्तेमाल भी करते हैं। पेपर पल्प की मूर्ति भी ऐसी ही है। अगर पानी नहीं लगे तो ये सालों साल चलेगी। कलाकार का कहना है कि अधिकांश भार संरचना के लिए है। मिट्टी की सजावट करने पर मूर्ति का वजन 100 किलो के करीब होता है और पोशाक का वजन 70 किलोग्राम से अधिक नहीं होगा”।
उन्होंने कहा, फाइबर के मामले में आमतौर पर एक सांचा होता है। उसी सांचे के अनुरूप मूर्तियां बनाई जाती हैं। कलाकार का कौशल सांचे बनाने तक ही सीमित है। लेकिन अगर आप कागज का मांडा लेकर काम करना चाहते हैं तो आपको मिट्टी की तरह बिल्कुल स्क्रैच से मूर्ति बनाने की शुरुआत करनी होगी। पशुपति कहते हैं, एक निश्चित मात्रा में कागज का मांडा बनाने के बाद मूर्ति बनाने का काम शुरू होता है। तीन मजदूरों से पांच फीट ऊंची मूर्ति बनाने में कम से कम दो से ढाई महीने का समय लगता है। मूर्ति पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल है क्योंकि यह कागज से बनी है। कलाकार का यह भी कहना है कि अगर उचित देखभाल की जाए तो ऐसी मूर्ति को पांच साल तक आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है।

फाइबर का उपयोग सही नहीं
पारिस्थितिकीविज्ञानी स्वाति नंदी चक्रवर्ती ने फाइबर के बजाय कागज से मूर्तियां बनाने के इस प्रयास का स्वागत करते हुए कहा, “फाइबर एक प्रकार का पॉलीविनाइल है। हर किसी को यह सोचना चाहिए कि इसके स्थान पर अन्य कौन सी पर्यावरण-अनुकूल सामग्री का उपयोग किया जा सकता है। कागज का गूदा बहुत उपयोगी होता है। मूर्तियां बनाने की सामग्री के रूप में बेकार पड़े अखबारों का उपयोग बढ़ेगा। इस काम में पहले से ही विभिन्न प्रकार की घास का उपयोग किया जा रहा है।

 

Visited 193 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : देवों के देव शिव शंभू, शिव शंकर साल का सबसे प्रिय माह श्रावण मास माना जाता है। इस
तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा सितंबर और चौथे सेमेस्टर की परीक्षा मार्च में कोलकाता : 12 साल बाद उच्च माध्यमिक के
हावड़ा : तीन युवकों पर शनिवार को 12 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म कर उसे दफनाने का आरोप लगा
कल मुहर्रम पर महानगर में सुरक्षा चाक-चौबंद, ट्रैफिक होगी प्रभावित करीब 4 हजार पुलिस कर्मी रहेंगे तैनात कल शहर में
कोलकाता : 6 दोस्त मंदारमणि की यात्रा पर गए थे। सभी लोग समुद्र में स्नान करने गये। तभी 2 लोगों
रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया हुई शुरू कोलकाता : माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 9 की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है। इसे
एक नजर प्याज : 50 रु. प्रति किलो टमाटर : 100 रु. प्रति किलो कोलकाता : पश्चिम बंगाल टास्क फोर्स
संजय मुखर्जी को बनाया गया डीजी दमकल कोलकाता : लोकसभा चुनाव और विधानसभा के उपचुनाव खत्म होते ही एक बार
कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश के बाद ईबी व टास्क फोर्स द्वारा मिलकर महानगर के विभिन्न बाजारों में
कोलकाता : कोलकाता में सोमवार को भगवान जगन्नाथ के 53वां उल्टा रथयात्रा का आयोजन किया गया। इस्कॉन कोलकाता के सौजन्य
कोलकाता : महानगर व आसपास क्षेत्रों के 19 अहम ब्रिज और फ्लाईओवर की मरम्मत की जायेगी। केएमडीए ने इसकी तालिका
कोलकाता : राज्य के मोटर ट्रेनिंग स्कूलों पर परिवहन विभाग द्वारा नकेल कसी जाने के लिये कई अहम कदम उठाये
ऊपर