डबल्यूएचओ ने कोरोना को ‘प्राकृतिक’ बताते हुए फिर किया चीन का बचाव

वॉशिंगटन: जहां कई वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों ने कोरोना को चीन के प्रयोगशाला से निकला हुआ वायरस बता कर महामारी का दोषी ठहराया, वहीं हमेशा की तरह डबल्यूएचओ चीफ ड्रैगन का बचाव करते हुए नज़र आये।  करीब 9 महीने पहले चीन के वुहान से कोरोना वायरस फैलना शुरू हुआ था। उसके बाद से अब तक दुनियाभर में करीब 10 लाख लोगों की मौत हो चुकी है लेकिन उससे जुड़े सवाल अनसुलझे हैं। इस बारे में जब भारत के एक पत्रकार ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डबल्यूएचओ) चीफ टेड्रोस ऐडनम से सवाल किया कि क्या कोरोना वायरस चीन से आया है, तो उन्होंने एक बार फिर चीन का बचाव किया।

प्राकृतिक रूप से आया वायरस
डबल्यूएचओ चीफ शुक्रवार को आयोजित एक कार्यक्रम में मीडिया से बात कर रहे थे। इस दौरान भारत के पत्रकार ने उनसे उन दावों के बारे में सवाल किया कि कोरोना वायरस चीन के वुहान की वायरॉलजी लैब में पैदा हुआ है। इस पर उन्होंने कहा, ‘डबल्यूएचओ विज्ञान और सबूतों में विश्वास करता है। मीडिया इंटरव्यू में किसी ने कहा कि वायरस लैब से आया है लेकिन जहां तक हमारी बात है, जितने प्रकाशन हमने देखे हैं उनमें कहा गया है कि वायरस प्राकृतिक रूप से आया है।’

वैक्सीन पर भी डबल्यूएचओ का चीन को सपॉर्ट
वहीं, चीन के स्वास्थ्य अधिकारी ने दावा किया है कि देश की कोरोना वैक्सीनों को तीसरे चरण का ट्रायल खत्म होने से पहले लोगों को देने के फैसले का डबल्यूएचओ ने समर्थन किया था। अधिकारी के मुताबिक इमर्जेंसी प्रोग्राम के तहत एक्सपेरिमेंटल वैक्सीनें ऐसे लोगों को दिए जाने का फैसला किया गया था जिन्हें वायरस से इन्फेक्शन का खतरा ज्यादा था। इसके बारे में जब डबल्यूएचओ को जानकारी दी गई तो उसने सपॉर्ट किया था।

‘विज्ञान का पालन करें’
ऐडनम ने आगे कहा, ‘अगर कोई चीज इसे बदलने वाली है तो वह साइंटिफिक प्रक्रिया के जरिए आएगी। जो भी मीडिया में आकर कुछ कहता है, हम कुछ नहीं कह सकते। हम उनसे कहेंगे कि साइंटिफिक प्रक्रिया का पालन करें।’ बता दें कि चीन से जान बचाकर भागीं वैज्ञानिक ली-वेंग यान ने दावा किया है कि वायरस चीन की लैब में ही पैदा हुआ और वहीं से फैला।

चीन से भागीं वैज्ञानिक का दावा
डॉ यान ने कहा था, ‘पहली बात तो यह है कि वुहान के मीट मार्केट को पर्दे के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है और वायरस प्राकृतिक नहीं है।’ जब उनसे पूछा गया कि वायरस कहां से आया तो उन्होंने कहा कि वुहान के लैब से। उन्होंने कहा, ‘जीनोम सीक्वेंस इंसानी फिंगर प्रिंट जैसा है। इस आधार पर इसकी पहचान की जा सकती है।’ यान ने कहा था कि वह सबूतों के आधार पर बता सकती हैं कि कैसे यह चीन की लैब से आया है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

हैदराबाद ने राजस्थान को 8 विकेट से हराया, मनीष-शंकर की आकर्षक बल्‍लेबाजी, टॉप-5 में पहुंची हैदराबाद

दुबई : मनीष पांडे की आकर्षक पारी और विजय शंकर के साथ उनकी अटूट शतकीय साझेदारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने गुरुवार को यहां राजस्थान रॉयल्स आगे पढ़ें »

भारतीय महिला दल टी20 चैलेंज के लिये संयुक्त अरब अमीरात पहुंचा

दुबई : भारत की 30 शीर्ष महिला क्रिकेटर टी20 चैलेंज में भाग लेने के लिये गुरूवार को यहां पहुंची जो ‘मिनी महिला आईपीएल’ के नाम आगे पढ़ें »

ऊपर