ब्रिटेन में 12 से 15 साल के बच्चों को भी लगेगी कोरोनावायरस वैक्सीन

फाइजर को मिली मंजूरी
लंदन : ब्रिटेन के मेडिसीन रेगुलेटर ने शुक्रवार (04 जून) को 12 से 15 साल के बच्चों के लिए फाइजर/बायोएनटेक कोरोनावायरस वैक्सीन को मंजूरी दे दी। मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) ने कहा कि इस फैसले ने कम आयु ग्रुप में सुरक्षा और प्रभावशीलता की “कठोर समीक्षा” का पालन किया और इसका निष्कर्ष यह है कि वैक्सीन का फायदा किसी भी जोखिम से अधिक है। अब तक, यूके में कोविड-19 वैक्सीन को 16 वर्ष और उससे अधिक आयु के वयस्कों के लिए अप्रूव किया गया है।
एमएचआरए चीफ एग्जिक्यूटिव डॉ जून राइन ने कहा कि हमने 12 से 15 वर्ष की आयु के बच्चों में क्लीनिकल ट्राइल डेटा की सावधानीपूर्वक समीक्षा की है और यह निष्कर्ष निकाला है कि फाइजर/बायोएनटेक कोविड-19 वैक्सीन इस आयु वर्ग में सुरक्षित और प्रभावी है और इस वैक्सीन के फायदे किसी भी जोखिम से अधिक हैं।
उन्होंने कहा कि हमारे पास यूके द्वारा स्वीकृत सभी कोविड-19 टीकों की सुरक्षा की निगरानी के लिए एक व्यापक सुरक्षा निगरानी रणनीति है और इस निगरानी में 12 से 15 वर्ष के आयु वर्ग के लोग शामिल होंगे। जब तक सुरक्षा, गुणवत्ता और प्रभावशीलता के अपेक्षित मानकों को पूरा नहीं किया जाता है, तब तक किसी ऑथराइजेशन के विस्तार को मंजूरी नहीं दी जाएगी।
एमएचआरए ने कहा कि अब यह टीकाकरण और इम्युनिटाइजेशन पर संयुक्त समिति (जेसीवीआई) के लिए होगा कि किस आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी या नहीं। रेगुलेटर ने कहा कि किसी भी नए दुष्प्रभाव की पहचान नहीं की गई है और बच्चों में सुरक्षा डेटा की तुलना युवा वयस्कों में देखी गई है। जैसा कि युवा वयस्कों में होता है, अधिकांश प्रतिकूल घटनाएं हल्के से मध्यम और प्रतिक्रियाजन्यता से संबंधित होती हैं, जैसे कि हाथ में दर्द या थकान।
यूके के मानव चिकित्सा आयोग (सीएचएम) के अध्यक्ष प्रोफेसर सर मुनीर पीरमोहम्मद ने कहा कि हम युवा आयु वर्ग और इस आबादी के दुष्प्रभावों के किसी भी संभावित जोखिम के खिलाफ टीकाकरण के लाभों को ध्यान में रखते हुए बहुत सावधान रहे हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

एम.ए पास नटवरलाल चला रहा था चोरों का गिरोह, 3 गिरफ्तार

पिता थे सेल के ऑफिसर एवं मां थी शिक्षिका, बेटा है चोर यह सुनकर ही मां ने कर ली थी आत्महत्या हावड़ा, हुगली, आसनसाेल में कई आगे पढ़ें »

सेक्स के दौरान लड़कियों के जांघों को…

कोलकाता : शारीरिक संबंध बनाने के दौरान महिला और पुरुष, दोनों में आपसी सामंजस्य होना बेहद आवश्यक होता है। सेक्स को दोनों शारीरिक संतुष्टि चाहते आगे पढ़ें »

ऊपर