महाभियोग की जांच में सहयोग नहीं करेंगे ट्रंप : व्हाइट हाउस

Donald Trump

वॉशिंगटन : व्हाइट हाउस ने कहा है कि डेमोक्रेट सदस्यों द्वारा महाभियोग की जांच में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सहयोग नहीं करेंगे। उसने कहा कि विपक्ष के ये प्रयास असंवैधानिक हैं और लोकतांत्रिक प्रक्रिया को पलटने का प्रयास है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की जांच पूरी तरह राजनीतिक है।
उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रपति ने कुछ भी गलत नहीं किया है और डेमोक्रेट भी यह जानते हैं। पूरी तरह से सियासी कारणों से डेमोक्रेट सांसदों ने 2016 के चुनावी नतीजों को पलटने का तय किया है ताकि वह हर अमेरिकी को प्राप्त बुनियादी अधिकारों की उपेक्षा करते हुए तथाकथित महाभियोग की जांच कर सकें।’

पत्र भेजकर अवगत कराया

व्हाइट हाउस ने प्रतिनिधि सभा में डेमोक्रेट नेताओं को पत्र भेजकर ट्रंप प्रशासन के इस निर्णय से अवगत करवा दिया है। इसके बाद ग्रिशम ने कहा, ‘यह पक्षपातपूर्ण कार्रवाई संविधान के लिए अपमानजनक है क्योंकि ये कार्रवाई बंद कमरे में हो रही है और इसमें राष्ट्रपति को गवाह बुलाने की, गवाहों से जिरह की इजाजत नहीं दी गई। उन्हें सबूत नहीं दिखाए गए। इसके अलावा कई बुनियादी अधिकारों से उन्हें वंचित रखा गया।

ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाने का आधार
आरोप है कि ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति से 25 जुलाई को टेलीफोन पर हुई बातचीत में डेमोक्रेटिक पार्टी से अपने प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन के खिलाफ जांच करने को कहा था। अमेरिकी प्रतिनिधिसभा में डेमोक्रेट सदस्य अब यह देख रहे हैं कि क्या यह ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाने का आधार बन सकता है। व्हाइट हाउस के अधिवक्ता पेट सिपोलोन ने राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ आरोपों को खारिज कर दिया और इन्हें निराधार तथा असंवैधानिक बताया।

पत्र की एक कॉपी मीडिया के लिए जारी किया गया

पत्र पर आठ अक्टूबर की तारीख दर्ज है और इसकी एक प्रति मीडिया के लिए जारी की गई है। पत्र में उन्होंने कहा, ‘आपकी गतिविधियों ने राष्ट्रपति के पास कोई विकल्प नहीं छोड़ा है। अमेरिकी जनता, संविधान आदि के प्रति अपने कर्तव्यों को पूरा करने के लिए राष्ट्रपति ट्रंप और उनका प्रशासन इन परिस्थितियों में आपकी पक्षपातपूर्ण तथा असंवैधानिक जांच में शामिल नहीं हो सकते हैं।’

इतिहास में पहली बार
सिपोलोन ने कहा कि ट्रंप का पूरा ध्यान अमेरिकी जनता से किए वादों को पूरा करने पर है। प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अमेरिका के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि प्रतिनिधि सभा सदन में मतदान करवाए बगैर राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग की तैयारी कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारत-पाक क्रिकेट संबंध दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों की मंजूरी से जुड़ा विषय : गांगुली

भारत-पाकिस्तान के बीच पिछली द्विपक्षीय सीरीज 2012 में हुई थी नयी दिल्‍ली : भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के भावी अध्यक्ष सौरव गांगुली ने भारत- पाकिस्तान आगे पढ़ें »

डेनमार्क ओपन : सिंधू, समीर और प्रणीत प्री क्वार्टरफाइनल में हारे

ओडेंसे : विश्व चैंपियन भारत की पीवी सिंधू,समीर वर्मा और बी साई प्रणीत गुरुवार को डेनमार्क ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के प्री क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर आगे पढ़ें »

ऊपर