तीन अंतरिक्ष यात्री छह महिने बाद धरती पर सुरक्षित लौटे

मास्को: नासा के खगोल यात्री क्रिस केसिडी और रूस के अनातोली इवानिशीन तथा इवान वेगनर को लेकर आ रहा सोयूज एमएसश्र16 कैप्सूल कजाखस्तान के देजकाजगन शहर के दक्षिण पूर्व में गुरुवार की सुबह सात बजकर 54 मिनट पर उतरा। संक्षिप्त चिकित्सा जांच के बाद तीनों को हेलीकॉप्टर से देजकाजगन लाया जायेगा जहां वह अपने अपने घरों के लिये प्रस्थान करेंगे।

केसिडी नासा के विमान में बैठकर ह्यूस्टन जायेंगे जबकि वेगनर एवं इवानिशीन रूस के स्टारसिटी में स्थित अपने घर के लिये उड़ान भरेंगे। तीनों अंतरिक्षयात्री जब राहत दल के मास्क पहने लोगों से मिले तो वे मुस्कराये और नासा एवं रूसी अंतरिक्ष एजेंसी, रोस्कोमोस ने बताया कि वे अच्छी स्थिति में हैं।

कोरोना वायरस महामारी के कारण अतिरिक्त सावधानी को ध्यान में रखते हुये बचाव दल की टीम के साथ जब उनकी (अंतरिक्ष यात्रियों) मुलाकात हुयी तो उससे पहले उनकी कोरोना वायरस जांच की गयी थी। हालांकि, राहत प्रयासों में शामिल लोगों की संख्या सीमित थी। केसिडी, इवानिशीन एवं वेगनर ने 196 दिन कक्षा में बिताये और इससे पहले नौ अप्रैल को वे अंतरिक्ष स्टेशन में पहुंचे थे।

इन खगोल यात्रियों के वापस लौटने से पहले नासा के केट रूबिंस, रूस के सर्गेई रेजिकोव तथा सर्गेई कुद-सेवरेचकोव एक सप्ताह पहले ही छह महीने के लिए अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंच चुके हैं। केसिडी अपने तीसरे अंतरिक्ष अभियान से वापस लौटे हैं और अब तक वह कुल 378 दिन अतरिक्ष में बीता चुके हैं जो अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों में पांचवीं सबसे लंबी समयावधि है। स्टेशन के कमांडर के तौर पर सेवा देने वाले केसिडी ने स्पेसएक्स डेमोश्र2 के अंतरिक्ष यात्रियों रॉबर्ट बेंकेन एवं डगलस हर्ले का स्वागत किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले टी-20 में भारत 11 रन से जीता

कैनबराः भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 टी-20 की सीरीज के पहले मैच में 11 रन से हरा दिया। टीम इंडिया पिछले 10 टी-20 मैच से आगे पढ़ें »

भारत में न्यूनतम मजदूरी पड़ोसी देशों से भी कम

नई दिल्ली : इंटरनेशनल लेबर आर्गनाइजेशन (आईएलओ) की नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत के मजदूरों पर कोरोना माहामारी और लॉकडाउन की आगे पढ़ें »

ऊपर