एक शहर ऐसा भी जहां अपनी मौत के लिए शॉपिंग करते हैं लोग, फेस्टिवल भी…

टोक्योः मौत अपने साथ भय और दुख लेकर आती है और मौत से सामना हो जाए तो इंसान खुद को असहाय महसूस करने लगता है।अगर आप किसी से पूछेंगें कि क्‍या उसे मौत से डर लगता है तो वो इंकार कर देंगें लेकिन सच बात तो यही है कि मौत से हर किसी को डर लगता है। बहुत कम लोग हें जिन्‍हें मौत से डर नहीं लगता है लेकिन आज हम जो खबर आपके लिये लाये हैं उसे पढ़कर आपको थोड़ी सी हैरानी तो जरूर होगी। दरअसल, दुनिया में एक ऐसा जगह भी है जहां लोग अपनी मौत की तैयारी खुद करते हैं। अब आप सोच रहे होंगे की मौत की तैयारी का क्या मतलब है तो चलिये आपको देते हैं विस्तृत जानकरी।
क्या है मामला?
मौत की तैयारी का मतलब है लोग अपनी मौत के बाद अंतिम संस्कार में काम आने वाले सामान को पहले से ही खरीद लेते हैं। लोग जीते जी तो अपने लिए शॉपिंग करते ही हैं लेकिन एक देश ऐसा भी है जहां पर लोग अपने मरने के बाद अंतिम संस्कार में काम आने वाले सामान जैसे कि कब्र के लिए जमीन, कपड़े और कफन पहले ही खरीद लेते हैं। इसके लिए एक फेस्टिवल का आयोजन किया जाता है जिसे शुकात्सु फेस्टा कहा जाता है।
यहां मनाया जाता है यह फेस्टिवल
अंतिम संस्कार में काम आने वाले सामान को खरीदने का यह फेस्टिवल जापान में मनाया जाता है। जिंदा रहते कब्र और कफन खरीदने की बात जानकर हर कोई सोच में पड़ जाएगा आखिर ये बात ही हैरान कर देने वाली है। जापान के टोक्यो में हर साल 16 दिसंबर को अंतिम संस्कार मेला लगता है यहां पर लोग अपने अंतिम संस्कार के लिए सामान खरीदने के लिए आते हैं। लोग फूलों से भरे ताबूत में लेट कर फोटो खिंचवाते हैं और अपने लिए कब्रिस्तान में प्लॉट भी खरीदते हैं। लोग अपने लिए अंतिम संस्कार के कपड़े भी खुद ही चुनते हैं। मौत के बारे में कोई फेस्टिवल मनाना बहुत ही अजीब विचार है लेकिन टोक्यो के शुकात्सु फेस्टिवल में लोगों को मौत की तैयारी करने के बारे में सिखाया जाता है। जापानी भाषा में शुकात्सु का मतलब होता है अपने अंत की तैयारी करना।
 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

माल हादसे के बाद महानगर के विसर्जन घाटों में बढ़ी सुरक्षा

पूजा आयोजकों को नहीं है नदी में जाने की अनुमति सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विजयादशमी के शाम जलपाईगुड़ी के माल नदी में हरपा बान में आठ लोगों आगे पढ़ें »

महापंचमी से लेकर विजय दशमी तक मेट्रो में 39.2 लाख यात्री हुए सवार

कोलकाता : दुर्गापूजा पर इस बार यानी कोविड के दो सालों के बाद 39,20,789 यात्रियों ने सफर किया। यह फुटफाल महापंचमी से लेकर विजयदशमी तक आगे पढ़ें »

ऊपर