हवा में ही था विमान, कैप्टन को आ गई नींद, 2 देशों में हड़कंप!

नई दिल्लीः पैसेंजर्स से भरी एक प्लेन को उड़ा रहे कैप्टन को नींद आ गई। विमान से 10 मिनट तक संपर्क नहीं हो पाया। जिसके बाद अधिकारियों को टेररिस्ट हाईजैक की आशंका हुई और फाइटर जेट को भी तैयार कर लिया गया। मामला इटली का है। पायलट इटली के स्टेट एयरलाइंस के लिए काम करते थे। सूत्रों के मुताबिक, आईटीए एयरवेज AZ609 पैसेंजर फ्लाइट के दोनों पायलट 30 अप्रैल को न्यूयॉर्क से रोम जाते वक्त Airbus 330 को कंट्रोल करते हुए सो गए।एक रिपोर्ट के मुताबिक, प्लेन का को-पायलट तय प्रक्रिया के मुताबिक ‘कंट्रोल्ड रेस्ट’ ले रहा था, लेकिन तब कैप्टन को जागते रहना और पहुंच में रहना चाहिए था, लेकिन तब प्लेन ऑटोपायलट में था और 10 मिनट तक कोई संपर्क नहीं हो पा रहा था। प्लेन ने फ्रांस में एन्ट्री के बाद अपना पोजीशन दिया था। इसके बाद उन्होंने एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स को अपना लोकेशन देना बंद कर दिया। बहुत बार कोशिश के बाद भी सफल न होने पर फ्रांस के अधिकारियों ने रोम के अधिकारियों से संपर्क किया और आतंकी घटना की चेतावनी दे दी।
फ्रांस के अधिकारियों ने दो फाइटर जेट को भी तैयार रहने को कहा था ताकि उसे वह पैसेंजर प्लेन के नजदीक भेजकर पायलट की स्थिति का जायजा ले सके। इस दौरान रोम के अधिकारियों ने भी प्लेन से संपर्क साधने की कोशिश की।
10 मिनट तक लगातार कोशिश के बाद पायलट ने आखिर में जवाब दिया। तब समय से 20 मिनट पहले ही वह रोम में लैंड करने वाले थे।

वहीं आईटीए एयरवेज के इंटरनल जांच में कैप्टन को दोषी बताकर उन्हें निकाल दिया गया। हालांकि, कैप्टन ने सोने की बात से इनकार किया है, लेकिन उन्होंने रेडियो का जवाब ना देने का कोई खास कारण भी नहीं बताया।
एयरलाइन के प्रवक्ता डाविड डेमिको ने कहा- प्लेन ऑटोपायलट पर था, नॉर्मल स्पीड पर फ्लाई कर रहा था। पैसेंजर की सेफ्टी से कभी समझौता नहीं किया गया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

फायर ब्रिगेड में नियुक्तियों पर हाई कोर्ट का स्टे

कोलकाता : हाई कोर्ट के जस्टिस हरीश टंडन और जस्टिस शंपापाल दत्त के डिविजन बेंच ने फायर ब्रिगेड विभाग में 15 सौ नियुक्तियों पर अगले आगे पढ़ें »

ऊपर