शिंजो आबे को नहीं, किसी और को मारना चाहता था हत्यारा, जानिए क्यों बदला …

टोक्योः जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे की हत्या मामले में अब नए-नए खुलासे हो रहे हैं। जापानी मीडिया ने हत्याकांड के अगले दिन चौंकाने वाला खुलासा किया है। दअसल शुक्रवार को भाषण देते वक्त शिंजो आबे को एक शख्स ने पीछे से दो गोलियां मारी थीं, जिसके बाद उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान शिंजो आबे का निधन हो गया। गोली मारने वाले शख्स तेत्सुया यामागामी को पुलिस ने मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया था। अब उससे पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है। दरअसल यामागामी शिंजो आबे से पहले किसी और नेता का खत्म करने पहुंचा था।
पुलिस पूछताछ में यामागामी ने बताया कि आबे की हत्या से पहले उसने एक और खतरनाक योजना बनाई थी, जिसके तहत उसने एक धार्मिक समूह के बड़े नेता पर हमला करने की प्लानिंग की थी। हालांकि, पुलिस ने उस नेता के नाम का खुलासा नहीं किया है।
इस शख्स को मारना चाहता था शिंजो आबे का हत्यारा
जापानी मीडिया के मुताबिक, यामागामी ने पुलिस से पूछताछ में बताया कि वह एक धार्मिक संगठन के लीडर पर हमला करना चाहता था। पुलिस पूछताछ में यामागामी ने खुलासा किया है कि आखिर वो धार्मिक लीडर को क्यों मौत के घाट उतारना चाहता था। हत्यारे ने बताया कि, इस धार्मिक लीडर ने उसकी मां के साथ धोखेबाजी की थी। हालांकि पुलिस ने धार्मिक नेता के नाम का खुलासा नहीं किया है।
इस वजह से की शिंजो आबे की हत्या

यामागामी ने बताया कि, वो जिस धार्मिक संगठन के नेता को मारना चाहता था, पूर्व पीएम आबे ने उस संगठन को देश में प्रमोट किया था। यही कारण था कि उसने शिंजो आबे पर हमला किया। यामागामी ने पुलिस से पूछताछ में खुलासा किया है कि उसने आबे की रैकी की थी। वह उन दूसरी जगहों पर भी गया था, जहां आबे ने इससे पहले भाषण दिए थे। इसके साथ ही यामागामी ने इस बात से इनकार किया है कि उसने किसी तरह के राजनीतिक मतभेद के चलते पूर्व पीएम की हत्या की।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सीएम ममता ने पूरे सिस्टम को भ्रष्टाचार में डुबो दिया हैः मो.सलीम

कोलकाताः "राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रशासन ही नहीं, पूरे सिस्टम को भ्रष्टाचार में डुबो दिया है।" यह कहना है मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के आगे पढ़ें »

ऊपर