भारत का वो समुदाय जहां गोरा बच्चा पैदा करना है गुनाह, जन्म के साथ ही मिलती है मौत

नई दिल्ली : दुनिया में आज के दौर में भी कई जनजातियां रहती हैं। कुछ जनजाति समय के साथ मॉडर्निटी को अपना चुकी हैं तो कुछ आज भी पत्थर युग में जी रहे हैं। आज हम आपको अंडमान एवं निकोबार आइलैंड पर रहने वाले जारवा जनजाति के बारे में बताने जा रहे हैं। ये जनजाति अब तक के सबसे प्राचीन माने जाते हैं जो पिछले पचपन हजार सालों से आइलैंड पर रह रहे हैं। अब ये विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गए हैं। इन्हें वैसे तो अफ्रीका महाद्वीप का नेटिव बताया जाता है लेकिन काफी लंबे समय से ये भारतीय महासागर के टापू में रह रहे हैं।
जारवा जनजाति भले ही काफी प्राचीन जनजाति है लेकिन अब ये विलुप्त होने की कगार पर पहुंच गया है। अब इस जनजाति के सिर्फ 380 लोग ही बचे हैं। ये आज भी पाषाण युग में जी रहे हैं। जारवा जनजाति मुख्य रुप से शिकार के जरिये अपना पेट भरते हैं। धनुष बाण के जरिये ये मछली और केंकड़े मनरते हैं। या फिर सूअर का झुंड में शिकार कर अपना पेट भरते हैं। लेकिन इस जनजाति के अबरे में कई अजीबोगरीब चीजें भी काफी प्रचलित है। इसमें से एक है सुन्दर बच्चे के जन्म पर मौत की सजा।
बच्चे का गोरा होना है मना
जारवा जनजाति में अगर कोई बच्चा गोरा या सुन्दर पैदा होता है तो उसे जन्म के तुरंत बाद मार दिया जाता है। इस जनजाति के लोग डार्क स्किन होते हैं। अफ्रीका से जुड़ें होने की वजह से लोग काले होते हैं। ऐसे में अगर कोई महिला गोरे बच्चे को पैदा करती है तो इस जनजाति के लोग उसे मार देते हैं। उनके मुताबिक़, गोरा बच्चा किसी और जनजाति या समुदाय की निशानी है। ऐसे में लोग उसे मार डालते हैं। इसके अलावा जब कभी इस समुदाय के बच्चे का जन्म होता है तो उसे कबीले की सारी महिलाओं का स्तनपान करवाया जाता है। इसे एकता की जड़ माना जाता है।
काला बच्चा पैदा करना जरुरी
जारवा जनजाति में काला बच्चा पैदा करना काफी जरुरी है। इसके लिए गर्भवती महिला को जानवर का खून पिलाया जाता है। माना जाता है कि अगर गर्भवती स्त्री जानवर का खून पीयेगी तो बच्चे का रंग काला ही होगा। अंधविश्वास का आलम ये है कि गोरा बच्चा पैदा होने के बाद खुद उसका पिता ही उसे मार डालत है। इसके अलावा जब कभी कोई महिला विधवा होती है, उसके बाद भी उसके बच्चे को मार दिया जाता है। आज भी अन्य लोगों से घुले नहीं है। ऐसे में टूरिस्ट्स के ऊपर इनसे मिलने को लेकर बैन है। साथ ही इनकी तस्वीरें लेना, या वीडियो ऑनलाइन पोस्ट करना गैरकानूनी है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

4 दिन में दूसरी बार ईएम बाइपास के मेट्रोपोलिटन ब्रिज पर दिखी दरार

कोलकाता : ईएम बाइपास के मेट्रोपोलिटन ब्रिज पर बीते 4 दिन में दूसरी बार दरार देखी गयी है। ऐसे में दरार वाले हिस्से को बैरिकेड आगे पढ़ें »

ऊपर