महिला जज ने कहा, ‘पीड़िता से सिर्फ 11 मिनट तक हुआ रेप’ और घटा दी दोषी की सजा

स्विट्जरलैंड: स्विट्जरलैंड में एक अजीब मामला सामने आया है। यहां कोर्ट ने पिछले साल हुए एक रेप के दोषी की सजा घटा दी है और इसके पीछे एक अजीब तर्क दिया है। इसके बाद से यहां लोग सड़कों पर उतर आए हैं और सजा कम करने का फैसला वापस लिए जाने की मांग कर रहे हैं। प्रदर्शनकारियों ने कोर्ट के बाहर खड़े होकर विरोध के तहत मौन भी रखा। इतना ही नहीं जज के इस फैसले का विरोध यहां के पॉलिटिशियंस ने भी किया है। रेप के दोषी की सजा घटाने वाली महिला जज लिजलोट हेंज ने अपने फैसले में कहा है कि पीड़िता से सिर्फ 11 मिनट तक रेप हुआ है, इसलिए उसकी सजा घटाई जा रही है। जज के इस फैसले ने यहां पर विरोध भड़का दिया है। खासकर महिलाओं में इसे लेकर बहुत गुस्‍सा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल बेसल में 33 साल की एक महिला के साथ 2 पुर्तगालियों ने रेप किया था। इनमें से एक की उम्र 17 साल और दूसरे की 32 साल है। इस मामले में नाबालिग दोषी को कोर्ट ने अब तक सजा नहीं सुनाई है, वहीं दूसरे दोषी की 51 महीने की सजा को घटाकर 36 महीने कर दिया है।पीड़िता नहीं कोर्ट दे रही है गलत सिग्‍नल
महिला जज केवल दोषी की सजा कम करने और कम देर तक रेप करने के बयान पर ही नहीं रुकीं, बल्कि उन्‍होंने अपने फैसले में यह भी कहा कि पीड़ित महिला ने आरोपियों को सिग्नल भेजे थे, इसी कारण दोषियों की हिम्‍मत बढ़ी। इस पर प्रदर्शनकारियों ने कहा कि पीड़िता ने नहीं बल्कि कोर्ट ने ऐसा फैसला देकर गलत सिग्‍नल दे दिया है। वहीं पीड़िता के वकील ने कोर्ट के इस फैसले पर हैरानी जताते हुए कहा, ‘ऐसा फैसला बेहद निराशाजनक है और समझ से बाहर है। हम अभी जज के लिखित फैसले का इंतजार कर रहे हैं उसके बाद आगे का कदम उठाएंगे।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंग : पुरुलिया में 237 से अधिक बच्चे बुखार के कारण अस्पताल में भर्ती

पुरुलिया : पुरुलिया देवेन महतो मेडिकल कॉलेज अस्पताल के शिशु विभाग में बुखार से पीड़ित बच्चों की संख्या रोजाना बढ़ती जा रही है। घटना के आगे पढ़ें »

ऊपर