अफगानिस्तान में नहीं होगा ‘लोकतंत्र’, शरिया कानून से चलेगा देश, तालिबान का ऐलान

अफगानिस्तान : अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार लोकतांत्रिक नहीं होगी। समूह के प्रवक्ता ने ऐलान किया है कि देश में लोकतंत्र का कोई आधार नहीं है। अफगानिस्तान में लोकतंत्र नहीं होगा। यहां शरिया कानून है और यही रहेगा। देश के सबसे बड़े पॉप स्टार समेत कई अफगान नागरिक देश छोड़कर भाग चुके हैं। जलालाबाद जैसे जिलों में स्थानीय नागरिकों को तालिबान की गोली का सामना करना पड़ रहा है। समूह के प्रवक्ता वहीदुल्ला हाशिमी ने रॉयटर्स से बात करते हुए कहा, ‘कोई भी लोकतांत्रिक व्यवस्था लागू नहीं होगी क्योंकि हमारे देश में इसका कोई आधार नहीं है। हम इस बात पर चर्चा नहीं करेंगे कि अफगानिस्तान में किस तरह की राजनीतिक व्यवस्था लागू करनी चाहिए। यह स्पष्ट है कि यहां शरिया कानून है और यही रहेगा।’
महिला गवर्नर की जान को खतरा
सलीमा मजारी हजारा जिले की गवर्नर के रूप में तालिबान की कड़ी आलोचक थीं। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक ऐसी आशंकाएं लगाई जा रही हैं कि आतंकी उन्हें मार सकते हैं। काबुल में तालिबान की वापसी के बाद से अल-कायदा और दूसरे इस्लामिक समूहों के समर्थक खुशियां मना रहे हैं। हालांकि इस बात का डर बढ़ गया है कि तालिबान की मौजूदगी अफगानिस्तान को ‘आतंकवाद की जन्मस्थली’ में बदल सकती है।
महिला एंकरों को नौकरी से निकाला
अफगानिस्‍तान में महिलाओं को समान अधिकार देने का वादा करने वाले ताल‍िबानियों ने सरकारी टीवी चैनल की एंकर खादिजा अमीन को बर्खास्‍त कर दिया है। उनकी जगह पर एक पुरुष तालिबानी एंकर को बैठाया गया है। वहीं एक अन्‍य महिला एंकर शबनम दावरान ने बताया कि हिजाब पहनने और आईडी कार्ड लाने के बाद भी उन्‍हें ऑफिस में घुसने नहीं दिया गया। शबनम को कहा गया कि अब तालिबान राज आ गया है और उन्‍हें घर जाना होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

भाटपाड़ा में भाजपा सांसद के घर पहुंचे एनआईए अधिकारी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बैरकपुर के सांसद सह प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष अर्जुन सिंह के भाटपाड़ा स्थित निवास स्थल पर बमबारी मामले में जांच के लिए आगे पढ़ें »

ऊपर