हनीमून के बीच हुआ ऐसा कुछ कि पत्नी बोली- शादी करके गलती कर दी

नई दिल्ली : न्यूलीवेड कपल के लिए हनीमून उनके सबसे हसीन पलों में से एक होता है, जिसे वे संजोकर रखना पसंद करते हैं। अब जरा सोचिए, इस गोल्डन पीरियड के बीच आपको किसी अर्जेंट काम के लिए ऑफिस से बुलावा आ जाए तो कैसा महसूस होगा। यकीनन आप बहुत दुखी हो जाएंगे और आपका पार्टनर भी मायूस हो जाएगा। एक नवविवाहित जोड़े के साथ बिल्कुल ऐसा ही हुआ, जो शादी के बाद हनीमून के लिए कम्बोडिया गया था।
अमेरिका में रहने वाले शख्स ने रेडिट पर बताया कि इसी साल जनवरी में हनीमून सेलिब्रेट करने वो कम्बोडिया गया था। इसी बीच ऑफिस से बॉस का फोन आ गया और उन्होंने उसे एक दिन के लिए किसी अर्जेंट काम से वापस ऑफिस आने को कहा। ये सुनते ही वो आगबबूला हो गया, क्योंकि हनीमून के लिए छुट्टियां लेकर ही वो कम्बोडिया आया था। उस वक्त बॉस ने ही उसकी छुट्टियों पर अप्रूवल दिया था।
बॉस के बुलावे पर एम्प्लॉयी ने ऑफिस आने से इनकार किया तो उसने उसे एक गैर-जिम्मेदार कर्मचारी ठहराते हुए ऑफिस से निकालने की धमकी दे दी। अपने रेडिट पोस्ट में शख्स ने लिखा, ‘मेरी हाल ही में शादी हुई थी और कम्बोडिया में अपने हनीमून को लेकर बहुत उत्सुक था। मेरी पत्नी और मुझे अक्सर काम से छुट्टी नहीं मिल पाती, इसलिए ये छुट्टियां हमारे लिए काफी स्पेशल थीं। मैंने 1 जनवरी को छुट्टी के लिए अप्लाई किया था, जिसे बॉस ने अगले ही दिन अप्रूव कर दिया था।’
शख्स ने आगे लिखा, ‘हालांकि, मेरे बॉस अब मुझे हनीमून के तीसरे दिन एक क्लाइंट की पिच मीटिंग में हिस्सा लेने के लिए कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये डील बहुत जरूरी है और उन्हें मेरी सिर्फ एक दिन के लिए आवश्यकता है। इसके जवाब में मैंने कहा कि ये मेरा हनीमून पीरियड है और मैं किसी शर्त पर वहां नहीं आ सकता। इस पर बॉस ने कहा कि ये सिर्फ एक दिन की बात है और अगर वो इस जरूरी मीटिंग के लिए मुझ पर निर्भर नहीं हो सकता तो उसे भरोसा नहीं होता कि वो एक टीम के रूप में मेरे साथ आगे बढ़ सकता है।’
इस पूरे मामले पर अपनी पत्नी से बात करने के बाद ये शख्स अब दो कड़े फैसलों के बीच फंसकर रह गया है। उसे डर है कि या तो बॉस उसे नौकरी से निकाल देगा और या हनीमून रीप्लान करना पड़ेगा। वहीं, दूसरी ओर पत्नी का कहना है कि ऐसे शख्स से शादी करके आज वो पछता रही है। शख्स ने लिखा कि पत्नी और पैसे में से किसी एक को चुनना उसके लिए बहुत मुश्किल हो गया है और इस दबाव में वो टूट रहा है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब दूसरे मामले में नौशाद सिद्दीकी को 6 दिनों की पुलिस हिरासत

पंचायत चुनाव तक मुझे जेल में रखना चाहती है तृणमूल - नौशाद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भांगड़ से आईएसएफ विधायक नौशाद सिद्दीकी को शुक्रवार को 6 दिनों आगे पढ़ें »

शुभेंदु के बाद दिलीप और मिठुन ने भी कहा, ‘अल्पसंख्यक विरोधी नहीं है भाजपा’

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में पंचायत चुनाव होने वाले हैं और अगले साल लोकसभा चुनाव भी है। ऐसे में भाजपा अभी से खुद को आगे पढ़ें »

ऊपर