सोमालिया : सेना की कार्रवाई में 11 आतंकवादी मरे, 15 घायल

soma

सोमालिया : सोमालिया के दक्षिणी इलाके के जोहार में मंगलवार को सेना ने कार्रवाई की। इस कार्रवाई में अल शबाब समूह के 11 स्‍थानीय आतंकवादी मारे गए तथा 15 अन्य घायल हो गए। सेना के अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। सोमालिया की 27 वीं डिवीजन के प्रभारी कमांडर सलाह याकूब ने संवाददाताओं को बताया कि स्थानीय आतंकवादियों ने जौहर शहर के शिम्बिरो गांव में सेना के आधार शिविर पर हमला किया था, सेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए आतंकवादियों के मंसूबों को नाकाम कर दिया।

सेना ने अभियान चला रखा है

कमांडर सलाह याकूब ने कहा, ‘‘ गठबंधन सेना ने 11 आतंकवादियों को मार गिराया और 15 अन्य घायल हो गये है। सेना ने शहर के बाहर भागे हुये आतंकवादियों से जुड़े लोगों के लिये अभियान चला रखा है। अब हमारी सेना इसी को आधार मानकर चल रही है।’’ एक स्थानीय नागरिक ने बताया कि शहर में भयंकर लड़ाई हुयी थी। सेना के क्षेत्र से कुछ लोगों ने हमला किया था, उसके बाद मोटार्र दागे जाने की आवाजें सुनी गयी हैं।

दो दिन पहले 20 आतंकवादी मारे गए थे

गौरतलब है कि सरकारी सेना द्वारा लोअर शबेले के दक्षिणी क्षेत्र के बरियर शहर में हुये एक हमले की जवाबी कार्रवाई में 20 आतंकवादियों को मार गिराए जाने के बाद के दो दिन बाद यह हमला हुआ है। दूसरी तरफ अल शबाब ने लड़ाई में अपनी जीत का दावा करते हुए कहा है कि उसके लड़ाकों ने शिम्बिरो गांव के सेना के बेस पर कब्जा कर लिया और हथियार और गोला बारूद जब्त कर लिये हैं।

20 अपहृत नागरिकों को बचाया गया

बता दें कि इस बीच, सरकारी सेना ने बंदरगाह शहर किस्मायो से एक अभियान में आतंकवादियों द्वारा अपहृत किये गये 20 नागरिकों को बचा लिया है। उन्होंने कहा कि किसमायो के उत्तर में योंतोय के आसपास के गांवों में बचाव अभियान चलाया गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

sonakshi

रामायण से जुड़े एक आसान सवाल का जवाब न दे पायीं सोनाक्षी, जमकर हुईं ट्रोल

मुंबई : बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा शुक्रवार को कौन बनेगा करोड़पति के 11 वें वीकली एपिसोड 'कर्मवीर' में नजर आईं। इस एपिसोड में राजस्‍थान के आगे पढ़ें »

Azam Khan

आजम खान की दिगवंत मां के खिलाफ मामला दर्ज, फांसीघर की जमीन खरीद-फरोख्त का आरोप

  रामपुर : ‌उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी (एसपी) के सांसद आजम खान पर आफत की बारिश रुकने का नाम ही नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर