सिंगापुर चीनी युक्त पेय पदार्थों के प्रचार पर प्रतिबंध लगाने वाला होगा पहला देश

sing

सिंगापुर : सिंगापुर चीनी की अत्याधिक मात्रा वाले अस्वास्थ्यकर पेय पदार्थों की प्रचार सामग्री पर प्रतिबंध लगाने वाला विश्व का पहला देश बन जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को बताया कि यह मधुमेह के बढ़ते मामलों से लड़ने का नवीनतम कदम है। ‘कम स्वास्थ्यकर’ घोषित किये गए उत्पादों को अब अपनी पैकिंग पर पोषक तत्वों और शर्करा की मात्रा लिखनी होगी। ज्यादा अस्वास्थ्यकर उत्पादों का इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट और ऑनलाइन मीडिया में प्रचार पर पूरी तरह प्रतिबंध होगा। मंत्रालय ने कहा कि यह कदम उपभोक्ता पर प्रचार सामग्री के प्रभाव को कम करने के उद्देश्य से उठाया गया है। भविष्य में चीनी पर कर या प्रतिबंध लगाया जा सकता है। मंत्रालय ने चीनी युक्त पेय पदार्थ निर्माता कंपनियों से पेय में चीनी की मात्रा कम करने का आग्रह किया है।

सिंगापुर में इतने प्रतिशत वयस्क मुधुमेह से पीड़ित

अंतरराष्ट्रीय मधुमेह संघ के अनुसार सिंगापुर के 13.7 प्रतिशत वयस्क मधुमेह से ग्रस्त हैं जो विकसित देशों में सर्वाधिक है। आज विश्व में 42 करोड़ लोग मधुमेह से पीड़ित हैं। यह संख्या 2045 तक 62.9 करोड़ हो जाने की आशंका है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हम जितना क्रिकेट खेल रहे थे, ऐसे में लॉकडाउन वाला ब्रेक जरूरी : रवि शास्त्री

नयी दिल्ली : भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री का मानना है कि कोविड - 19 के कारण पूरी दुनिया मानों रूक जाने से आगे पढ़ें »

धोनी की टीम इंडिया में वापसी मुश्किल है : भोगले

नयी दिल्ली : भारत के मशहूर क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले का मानना है कि पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का टीम इंडिया में वापस आगे पढ़ें »

ऊपर