नहीं रहा ‘रियल लाइफ टार्जन’

वियतनामः आपने टार्जन की कई कहानियां सुनी होगी। या फिर उन्हें फिल्मों में देखा होगा। लेकिन, कभी-कभी ‘रियल लाइफ टार्जन’ की खबरें भी सुनने को मिल जाती है। जिसके बारे में जानकर लोगों को हैरानी भी होती है। कुछ साल पहले वियतनाम से भी ऐसी खबरें सामने आई थी, जहां एक ‘असली’ टार्जन मिला था। लेकिन, अब उसकी मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि महज आठ साल ही वह इंसानों के बीच रह पाया। जानकारी के मुताबिक, ‘रियल लाइफ टार्जन’ का नाम ‘हो वैन लैंग’ था। लैंग ने तकरीबन 41 साल जंगलों में बिताए। इसके बाद उन्हें इंसानों के बीच लाया गया था। लेकिन, आठ वर्षों तक ही वह इंसानों के बीच रह सके। पिछले सोमवार को कैंसर के कारण उसकी मौत हो गई। रिपोर्ट के अनुसार, 1972 में लैंग के पिता ‘हो वान थान’ वियतनाम की ओर से लड़ाई लड़ रहे थे। अमेरिकी बमबारी में उनके आधे परिवार की मौत हो गई थी। जान बचाने के लिए हो वान अपने बेटे लैंग को लेकर जंगलों में रहने के लिए चले गए थे। दोनों काफी समय तक इंसानी दुनिया से दूर रहे और जंगल में ही अपना जीवन बिताया।
2013 से इंसानों के बीच रह रहे थे लैंग

बताया जाता है कि दोनों जंगली चीजों को खाकर ही अपना जीवन चला रहे थे। इतना ही नहीं महिलाओं की उपस्थिति से भी वे अनजान थे। जब उनके बारे में लोगों को पता चला तो उन्हें इंसानों के बीच लाने का फैसला किया गया। साल 2013 के बाद से दोनों इंसानों के बीच रहने लगे थे। लेकिन, लैंग इंसानी सभ्यता में सही से एडजस्ट नहीं कर पा रहे थे और निरंतर उनकी हालत बिगड़ती चली गई। आखिरकार, बीते सोमवार उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। कहा ये भी जा रहा है उन्हें कैंसर हो गया था, क्योंकि उन्हें इंसानी खाद्य पदार्थ और शराब पीने से काफी नुकसान पहुंचा। आलम ये है कि अब यह मामला चर्चा का विषय बना हुआ है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

हावड़ा में तृणमूल में आने के लिए भाजपा नेताओं की है लंबी लाइन : अरूप राय

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में तृणमूल कांग्रेस की तीसरी बार सरकार बनने के बाद से भाजपा के कई बड़े नेताओं के सुर बदलने लगे। भाजपा आगे पढ़ें »

ऊपर