कोरोना महामारी ने संरा की विफलता के पोल खोले, देशों ने उठाई आवाज

संयुक्तराष्ट्र: दुनियाभर में दस लाख लोगों की जान लेने वाले कोरोना वायरस ने इस संकट से निपटने में देशों को एकजुट करने वाले संयुक्त राष्ट्र की विफलताओं को सामने ला दिया है। इसके साथ ही विश्व निकाय में सुधार के लिए नए सिरे से आवाजें उठने लगी हैं ताकि निकाय विविध तरह की चुनौतियों से निपटने में सक्षम हो। संयुक्त राष्ट्र के गठन के समय की तुलना के मद्देनजर परिस्थितियां भी काफी बदली हैं। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने पिछले हफ्ते कहा था, ‘महामारी अंतरराष्ट्रीय सहयोग की स्पष्ट परीक्षा है – एक ऐसी जांच जिसमें हम निश्चित ही विफल रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘नेतृत्व और शक्ति के बीच संपर्क नहीं है’। संरा चीफ के इस बयान ने संरा की कार्यशैैली पर एक बहुत बड़ा प्रश्न चिन्ह लगा दिया है।

एंतोनियो ने चेतावनी दी कि 21वीं सदी की एक-दूसरे से कटी हुई दुनिया में ‘एकजुटता सबके हित में है और यदि हम इस बात को नहीं समझ पाते हैं तो इसमें सभी का नुकसान है।’ महासभा में विश्व नेताओं की पहली ऑनलाइन बैठक में प्रमुख शक्तियों के बीच तनाव, गरीब-अमीर देशों के बीच बढ़ती असमानता और संरा के 193 सदस्य राष्ट्रों के प्रमुख मुद्दों पर एकमत होने में बढ़ती कठिनाई सामने आई।

जानिए क्यों गठित हुआ था संरा, क्यों पर गया है कमजोर
द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यह निकाय 50 सदस्यों के साथ 1948 में बना था तथा सदस्य राष्ट्रों ने ‘आने वाली पीढ़ियों को युद्ध के अभिशाप से बचाने’ का संकल्प लिया था। लेकिन दुनियाभर में असमानता, भूख तथा जलवायु संकट के कारण संघर्ष बढ़ते ही गए। स्विट्जरलैंड के राष्ट्रपति सिमोनेटा सोममारूगा ने कहा, ‘हम इसके लिए संयुक्त राष्ट्र की आलोचना कर सकते हैं लेकिन जब हम संरा को दोष देते हैं तो दरअसल हम बात किसके बारे में कर रहे हैं? हम अपने बारे में बात कर रहे हैं क्योंकि संरा तो सदस्य राष्ट्रों से बना है। ये आमतौर पर सदस्य राष्ट्र ही होते हैं जो संरा के काम में बीच में आ जाते हैं।’

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र को ‘छोटी-छोटी बातों पर सहमति बनाने में भी इतनी मुश्किल आई कि इसके शक्तिहीन होने का जोखिम हो गया।’ केन्या के राष्ट्रपति उहुरू कन्याटा ने कहा कि बहुसंख्यक वैश्विक आबादी आज संरा की स्थापना की परिस्थितियों से खुद को जुड़ा नहीं पाती। उन्होंने पूछा, ‘आज यह (संरा) दुनिया को क्या दे रहा है?’ कई नेताओं के लिए संरा की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका है सभी देशों को बात-समझौता करने के लिए एक साथ लाना। लेकिन सभी सदस्य राष्ट्रों का महत्वपूर्ण दस्तावेजों पर एकमत होना जैसे इसके नियम को लेकर काफी निराशा है।

यही वजह है कि सुरक्षा परिषद में सुधार जैसे विषय पर 40 वर्षों से चली आ रही बहस का अब भी कोई अंत नहीं है। पंद्रह सदस्यीय सुरक्षा परिषद में वर्तमान की वास्तविकताओं के अनुरूप बदलाव करने की मांग उठ रही है ताकि इसमें और व्यापक प्रतिनिधित्व हो सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शनिवार को अपने संबोधन में संरा पर सवाल उठाते हुए पूछा था, ‘संयुक्त राष्ट्र की निर्णय लेने वाले समिति से भारत को अब और कितने समय तक बाहर रखा जाएगा।’ भारत संरा का अस्थायी सदस्य है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

18 ट्रांसजेंडर उच्चतर माध्यमिक पाठक्रम की परीक्षा में उतीर्ण हुए

तिरुवनंतपुरम: केरल में ट्रांसजेंडर समुदाय के अठारह सदस्यों ने केरल राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण (केएसएलएमए) द्वारा उच्चतर माध्यमिक समकक्षता पाठक्रम के लिए आयोजित परीक्षा उतीर्ण आगे पढ़ें »

तीन अंतरिक्ष यात्री छह महिने बाद धरती पर सुरक्षित लौटे

मास्को: नासा के खगोल यात्री क्रिस केसिडी और रूस के अनातोली इवानिशीन तथा इवान वेगनर को लेकर आ रहा सोयूज एमएसश्र16 कैप्सूल कजाखस्तान के देजकाजगन आगे पढ़ें »

ऊपर