लंदन में पाकिस्तानी उच्चायोग को नवाज शरीफ का अरेस्ट वारंट थमाया गया

लंदन: पाकिस्तान सरकार ने अपने लंदन स्थित उच्चायोग को नवाज शरीफ के खिलाफ गिरफ्तारी का अरेस्ट वारंट भेजा है। शरीफ को अल अजीजिया स्टील मिल्स मामले और एवनफील्ड केस में दिसंबर 2018 में दोषी पाए जाने पर सात साल की जेल की सजा हुई थी। अपनी बिगड़ती तबीयत के इलाज के नाम पर नवाज शरीफ ने लाहौर हाईकोर्ट से 4 सप्ताह तक विदेश में रहने की अनुमति ली थी। शरीफ नवंबर 2019 से अब तक लंदन में रह रहे हैं।

शरीफ को 22 सितंबर को अदालत में पेश होने का आदेश
उच्चायोग ने हालांकि इस घटनाक्रम पर कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं की है लेकिन पाकिस्तानी समाचार पत्र ‘द डान’ ने अपुष्ट सूत्रों के हवाले से इस बात की पुष्टि की है कि उच्चायोग को शरीफ की गिरफ्तारी से संबधित कागजात मिल गये हैं। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय के सहायक रजिस्ट्रार ने गुरुवार को पाकिस्तान के विदेश सचिव को यह सुनिश्चित करने को कहा कि शरीफ को 22 सितंबर को अदालत में पेश किया जाए। इस पत्र में सहायक रजिस्ट्रार ने यह भी कहा कि 22 सितंबर के अलावा उन्हें ऐसी किसी भी तारीख पर अदालत में आना पड़ेगा जो तय की जाएगी।

क्या है शरीफ की दलील
पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता शरीफ नवंबर 2019 में चिकित्सा आधार पर अदालत से जमानत मंजूर करवाकर ब्रिटेन आए थे। चिकित्सकों के अनुसार वह काफी जटिल दिल की बीमारी और प्रतिरक्षा संबंधी बीमारी से पीड़ित है जिसकी वजह से उनके रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या गिरकर खतरनाक स्तर तक पहुंच जाती है। इसी मामले में शरीफ के वकीलों ने पिछले सप्ताह लाहौर उच्च न्यायालय में एक मेडिकल रिपोर्ट जमा कराई थी जिसमें चिकित्सकों के हवाले से कहा गया था वह उच्च रक्त चाप, दिल की बीमारियों, मधुमेह और गुर्दों की गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं तथा कोरोना जैसी महामारी के चलते उनके लिए यात्रा करना उचित नहीं होगा। उनके वकीलों ने यह भी बताया है कि कोविड महामारी के कारण उनका उपचार रोक दिया गया था और अब यह फिर शुरू होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारी संख्या में हथियार के साथ तस्कर गिरफ्तार

दक्षिण 24 परगना : मंगलवार की शाम को पुलिस ने भारी संख्या में देशी कट्टा के साथ एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया है। यह घटना आगे पढ़ें »

मायावती का अखिलेश पर बड़ा हमला, कहा – ‘सपा को हराने के लिए किसी को भी देंगे समर्थन’

- मुलायम के बाद अब अखिलेश की भी होगी बुरी गति : मायावती का बयान लखनउ: उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव को लेकर मचे सियासी हलचल आगे पढ़ें »

ऊपर