तालिबान का फरमान- महिलाएं घर से हीं करें काम वरना सुरक्षा की गारंटी नहीं

काबुल : अब तक महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने वाला वादा कर रहे तालिबान के सुर बदल गए हैं। तालिबान ने स्वीकार कर लिया है कि उसके मौजूदा शासन में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। साथ ही निर्देश दिया है कि महिलाएं घर से काम करें। तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में दो टूक कह दिया कि महिलाओं को अपनी सुरक्षा को देखते हुए काम पर नहीं जाना चाहिए।
तालिबानी प्रशिक्षित नहीं होते
मुजाहिद ने कहा है कि ऐसा करना जरूरी है क्योंकि तालिबानी ‘बदलते रहते हैं और वे प्रशिक्षित नहीं होते हैं। इससे पहले 1996 से 2001 के तालिबानी शासन के बीच अफगानिस्‍तान में इस कट्टरवादी समूह ने महिलाओं के काम करने के लिए बाहर जाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। साथ ही उन्‍हें घर पर ही रहने और बुर्का पहनने के लिए मजबूर कर दिया था।
विश्‍व बैंक ने रोकी फंडिंग
तालिबान का यह बयान विश्‍व बैंक द्वारा फंडिंग रोकने के निर्णय के कुछ समय बाद ही आया है। विश्‍व बैंक ने महिलाओं की सुरक्षा के बारे में चिंताओं का हवाला देते हुए फं‍डिंग रोक दी है। वहीं संयुक्‍त राष्‍ट्र ने तालिबानी कब्‍जा होने के बाद आ रही मानवाधिकारों के हनन की खबरों की पारदर्शी और त्वरित जांच करने की अपील की है। बता दें कि अफगानिस्‍तान की अर्थव्यवस्था की विदेशी सहायता पर निर्भरता बहुत ज्‍यादा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

भाजपा सोच भी नहीं सकती कि ऐसे बड़े नेता आना चाहते हैं तृणमूल में – फिरहाद

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बाबुल सुप्रियो के बाद और कई बड़े नाम जल्द तृणमूल से जुड़ने जा रहे हैं। ऐसा ही संकेत दिया राज्य के परिवहन आगे पढ़ें »

ऊपर