वैक्सीन से ज्यादा कारगर नहीं मास्क : ट्रंप

वाशिंगटन : अमेरिका में तीन नवंबर को होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव से पहले कोरोना वैक्सीन को लेकर सियासत गरमा गई है। अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के डायरेक्टर रॉबर्ट रेडफील्ड का कहना है कि मास्क पहनना वैक्सीन के मुकाबले ज्यादा कारगर है लेकिन, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप देश के सबसे बड़े स्वास्थ्य अधिकारी की दलील से सहमत नहीं हैं। ट्रंप ने मास्क पर नया नजरिया पेश किया है। उन्होंने कहा कि मैंने उनका बयान देखा। उनको बुलाकर बातचीत की। मैंने उनसे पूछा- आखिर आप कहना क्या चाहते हैं? मुझे लगता है सीडीसी चीफ ने गलती कर दी है। मैं इस बात से बिल्कुल सहमत नहीं हूं कि मास्क वैक्सीन से ज्यादा कारगर हैं। ऐसा कैसे हो सकता है। मास्क शायद संक्रमण रोकने में मददगार हो सकते हैं। लेकिन, वैक्सीन ही बेहतर उपाय है। ट्रंप बहुत कम मौकों पर मास्क पहने नजर आए हैं। शुरुआत में तो उन्होंने कोरोना की तुलना फ्लू से की थी। अमेरिका में कोरोना वैक्सीन उपलब्ध होने के मुद्दे पर भी रेडफील्ड और ट्रंप में मतभेद साफ तौर पर नजर आ रहे हैं।

विदेशी हस्तक्षेप से बड़ा खतरा डाक मतपत्र

ट्रंप ने कहा है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में कथित विदेशी हस्तक्षेप से बड़ा खतरा डाक मतपत्र हैं, क्योंकि इनसे बड़े स्तर पर चुनावी धांधली की आशंका है। डेमोक्रेटिक पार्टी के शासन वाले राज्यों के गवर्नर लोगों को मतदान केंद्र जाने के बजाए डाक मतपत्र के जरिए मतदान करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। ट्रंप की दलील है कि ऐसे कदम से चुनावी धांधली हो सकती है, क्योंकि इसमें कोई किसी और के बदले भी वोट डाल सकता है। हजारों मत पत्र गायब हो सकते हैं। वहीं, डेमोक्रेटिक पार्टी का कहना है कि यह स्थापित चलन है और कोरोना के मद्देनजर डाक मतपत्र से मतदान के विकल्प को चुनने की जरूरत है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लंदन के डॉक्टर ने 31 लाख में खरीदा ‘अलादीन का चिराग’

नई दिल्लीः उत्तरप्रदेश के मेरठ में लंदन से आए एक डॉक्टर ने 31 लाख में 'अलादीन का चिराग' खरीदा। यह सुनने और पढ़ने में भले आगे पढ़ें »

बंजारा समुदाय के आध्यात्मिक गुरु राम रावजी महाराज नहीं रहे

मुंबई : बंजारा समुदाय के आध्यात्मिक गुरु श्री संत राम रावजी महाराज (84) का यहां स्थित एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। उनके निकटवर्ती आगे पढ़ें »

ऊपर