भारतीय वायुसेना को सौपा गया पहला राफेल लड़ाकू विमान, 8 अक्टूबर को होगा वायुसेना में शामिल

Rafale Fighter plane

नई दिल्ली : फ्रांस की रक्षा कंपनी दसॉल्ट ने गुरुवार को पहला राफेल लड़ाकू विमान भारतीय वायुसेना को सौंप दिया है। वायुसेना के सूत्रों के अनुसार टेल नंबर आरबी-01 के साथ पहला विमान फ्रांस में एयर मार्शल वीआर चौधरी के नेतृत्व में सेना के अधिकारियों को सौंपा गया। गुरुवार को वायुसेना ने फ्रांस में दसॉ एविएशन विनिर्माण सुविधा में पहला राफेल लड़ाकू विमान प्राप्त किया। इस दौरान डेप्युटी चीफ एयर मार्शल वीआर चौधरी ने लगभग 1 घंटे राफेल में उड़ान भी भरी। टेल नंबर आरबी -01 का नाम भारतीय वायु सेना के प्रमुख एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया के नाम पर रखा गया है, जिन्होंने देश के सबसे बड़े रक्षा सौदे को अंतिम रूप देने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। राफेल को आधिकारिक तौर पर 8 अक्टूबर को भारतीय वायुसेना में शामिल किया जाएगा। बता दें कि भारत और फ्रांस के बीच राफेल लड़ाकू विमान को लेकर 60 हजार करोड़ का सौदा हुआ था।

आठ अक्टूबर को वायुसेना में होगा शामिल

बताया जा रहा है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और नये एयरफोर्स चीफ आरकेएस भदोरिया की मौजूदगी में राफेल भारतीय वायुसेना में शामिल किया जाएगा। इसके साथ ही पायलटों और कर्मियों के प्रशिक्षण के बाद राफेल विमान मई 2020 में भारत पहुंचना शुरू हो जाएगा।

भारत और फ्रांस के बीच 36 विमानों का सौदा

बता दें कि भारत ने सितंबर 2016 में फ्रांस से 36 लड़ाकू राफेल विमानों का सौदा किया था। वहीं भारतीय पायलटों को फ्रांसीसी वायु सेना के विमानों के लिए प्रशिक्षित कर दिया गया है। भारतीय वायुसेना मई 2020 तक तीन अलग-अलग बैचों में 24 पायलटों को प्रशिक्षित करेगी, जिससे राफेल को उड़ाया जा सके।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सोनम वांगचुक के चीनी उत्पादों के बहिष्कार अभियान को व्यापारियों का मिला समर्थन

नई दिल्ली : कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि देश के सात करोड़ व्यापारी लद्दाख के शैक्षिक सुधारक सोनम वांगचुक के आगे पढ़ें »

पूर्व पाक कप्तान हनीफ का दावा, 1983 में हॉकी टीम के सदस्‍य तस्‍करी में लिप्‍त थे 

कराची : पाकिस्तान के पूर्व हॉकी कप्तान हनीफ खान ने आरोप लगाया कि 1983 में हांगकांग से वापस आते समय उनकी टीम के कुछ खिलाड़ियों आगे पढ़ें »

ऊपर