भारत बच्चों के स्वस्थ एवं खुशहाल जीवन के मामले में 131वें स्थान पर

children

संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र समर्थित एक रिपोर्ट आई है जिसके मुताबिक संवहनीयता सूचकांक (सस्टेनेबिलीटी इंडेक्स) के मामले में भारत 77वें स्थान पर है और बच्चों की उत्तर जीविता, पालन-पोषण तथा खुशहाली से संबंधित सूचकांक (फ्लोरिशिंग इंडेक्स) में उसका स्थान 131वां है। संवहनीयता सूचकांक प्रति व्यक्ति कार्बन उत्सर्जन से जुड़ा है जबकि खुशहाली सूचकांक का संबंध किसी भी राष्ट्र में मां-बच्चे की उत्तर जीविता, पलने, बढ़ने तथा उसके कल्याण से है।

40 से अधिक विशेषज्ञों के आयोग ने जारी की रिपोर्ट

दुनियाभर के 40 से अधिक बाल एवं किशोर स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक आयोग ने बुधवार को रिपोर्ट जारी की है। यह शोध विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), संरा बाल कोष (यूनिसेफ) तथा दी लांसेट मेडिकल जर्नल के संयुक्त तत्वावधान में हुआ है। रिपोर्ट में 180 देशों की क्षमता का आकलन किया गया है कि वे यह सुनिश्चित कर पाते हैं या नहीं कि उनके यहां के बच्चे पलें-बढ़ें और खुशहाल रहें।

संवहनीयता सूचकांक के मामले में भारत का स्थान 77वां

रिपोर्ट के मुताबिक संवहनीयता सूचकांक के मामले में भारत का स्थान 77वां और खुशहाली के मामले में 131वां है। खुशहाली सूचकांक में आता है माता एवं पांच साल से कम आयु के बच्चों की उत्तर जीविता, आत्महत्या दर, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सुविधा, बुनियादी साफ-सफाई और भीषण गरीबी से मुक्ति तथा बच्चे का फलना-फूलना आदि। इसमें कहा गया कि विश्व की संवहनीयता बच्चों के फलने-फूलने की क्षमता पर निर्भर करती है लेकिन कोई भी देश अपने नौनिहालों को टिकाऊ भविष्य देने के पर्याप्त प्रयास नहीं कर रहा है।

कोई भी देश नहीं करवा रहा सही परिस्थितियां मुहैया

रिपोर्ट के अग्रणी शोधकर्ताओं में से एक यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में विश्व स्वास्थ्य एवं संवहनीयता के प्रोफेसर एंथनी कोटेलो ने कहा, ‘दुनिया का कोई भी देश ऐसी परिस्थितियां मुहैया नहीं करवा रहा है जो हर बच्चे के विकसित होने और स्वस्थ्य भविष्य के लिए आवश्यक है।’ उन्होंने कहा, ‘बल्कि उन्हें तो जलवायु परिवर्तन तथा व्यावसायिक मार्केटिंग का सीधे-सीधे खतरा है।’ उत्तर जीविता, स्वास्थ्य, शिक्षा एवं पोषण दरों के मामलों में नॉर्वे पहले स्थान पर है। इसके बाद दक्षिण कोरिया, नीदरलैंड, मध्य अफ्रीकी गणराज्य और चाड है। हालांकि प्रतिव्यक्ति कार्बन उत्सर्जन के मामले में चाड को छोड़कर बाकी के ये देश बहुत पीछे हैं। जो देश 2030 के प्रतिव्यक्ति कार्बन उत्सर्जन के लक्ष्य के मुताबिक चल रहे हैं वे हैं अल्बानिया, आर्मेनिया, ग्रेंडा, जॉर्डन, मोलदोवा, श्रीलंका, टूनीशिया, उरुग्वे तथा वियतनाम

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्रिकेट नहीं हुए तो इंग्लैंड व वेल्स क्रिकेट बोर्ड को 30 करोड़ पौंड का नुकसान

लंदन : इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के प्रमुख टॉम हैरिसन ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण अगर आगामी सत्र में क्रिकेट नहीं आगे पढ़ें »

विम्बलडन रद्द होने का असर नहीं, तय समय पर हीअमेरिकी ओपन : आयोजक

न्यूयार्क : कोरोना वायरस महामारी के कारण विम्बलडन रद्द हो गया और फ्रेंच ओपन स्थगित कर दिया गया लेकिन अमेरिकी ओपन के आयोजकों ने कहा आगे पढ़ें »

क्यूबा का ओलंपिक चैंपियन पहलवान बोरेरो कोरोना की चपेट में

2011 विश्‍व कप : धोनी के विजयी छक्के को ज्यादा त्वज्जो देने से गंभीर नाराज, कहा- पूरी टीम की वजह से बने थे विश्व चैम्पियन

मूडीज इन्वेस्टर्स ने बैंकिंग सेक्टर के लिए अनुमान स्थिर से नेगेटिव किया

पीएम केयर्स फंड में दो साल का वेतन देंगे गौतम गंभीर

टोक्यो ओलंपिक पर समर्थन के लिये आईओसी प्रमुख बाक ने मोदी का आभार जताया

डकवर्थ-लुईस नियम बनाने वाले 78 साल के गणितज्ञ लुईस का निधन

चीन की मैन्यूफैक्चरिंग रिकवरी क्रूड के लिए अच्छा सौदा, सोने की चमक फीकी

पंत के छक्का लगाने के चैलेंज पर रोहित ने कहा- उसे खेलते हुए एक साल भी नहीं हुआ और चुनौती दे रहा

ऊपर