भारत और अमेरिका के गहरे संबंधों से हिंद-प्रशांत क्षेत्र, दुनिया अधिक सुरक्षित होगी : बाइडेन

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कहा कि नियम-कायदे वाले हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत एवं अमेरिका के मजबूत साझे हित हैं जहां चीन समेत कोई भी देश अपने पड़ोसियों को डराता-धमकाता नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका बेहतर भविष्य के लिए क्षेत्र को निश्चित ही आकार दे सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘मैंने कहा था कि भारत और अमेरिका जब निकट मित्र बनेंगे, तो दुनिया अधिक सुरक्षित होगी।

कार्यक्रम में 268 लोग शामिल हुए
बाइडेन ने चुनाव प्रचार के लिए चंदा एकत्र करने के मकसद से भारतीय अमेरिकियों के लिए आयोजित एक डिजिटल कार्यक्रम के दौरान ये बात कही। 268 लोगों द्वारा हिस्सा लेने वाले इस कार्यक्रम में बाइडेन ने आरोप लगाया कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प चीन के लिए ऐसे समय में जगह बना रहे हैं जब वह हिंद प्रशांत में अपने पड़ोसियों और अमेरिकी नेतृत्व को कमजोर करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने पूर्व सर्जन डॉ. विवेक मूर्ति के साथ संवाद के दौरान कहा, ‘हम बेहतर भविष्य के लिए हिंद-प्रशांत की व्यवस्था को निश्चित ही आकार दे सकते हैं। हम इसे दुरुस्त कर सकते हैं। यह चुनाव हमारा भविष्य तय करेगा।’

भारत-अमेरिका असैन्य परमाणु समझौते को दी मंजूरी
बाइडेन ने पहले अमेरिकी सांसद और फिर देश के उपराष्ट्रपति के रूप में भारत के साथ अपने पुराने संबंधों एवं कई दशकों में किए अपने कार्य का जिक्र करते हुए कहा कि उनका प्रशासन दोनों देशों के संबंधों को महत्व देना जारी रखेगा। उन्होंने कहा, ‘यह तस्वीर खिंचाने या हाथ मिलाने का अवसर खोजने का समय नहीं बल्कि चीजें करके दिखाने की बात है।’ बाइडेन ने कहा कि उन्होंने 15 साल पहले रिपब्लिकन पार्टी के सांसद रिचर्ड लुगर के साथ सीनेट विदेश संबंध समिति का नेतृत्व किया था और ऐतिहासिक भारत-अमेरिका असैन्य परमाणु समझौते को मंजूरी दी था। उन्होंने कहा, ‘उपराष्ट्रपति के रूप में सात साल पहले मैंने मुंबई में एक कारोबारी से कहा था कि अमेरिका और भारत की साझीदारी 21वीं सदी में महत्वपूर्ण संबंध साबित होगी।’

बाइडेन ने कहा, ‘मैं यह अब नहीं कह रहा मैंने तब यह कहा था और मैं वाकई ऐसा ही मानता हूं।’ उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रपति के तौर पर भी इस पर भरोसा करना जारी रखेंगे। पूर्व उपराष्ट्रपति ने कहा, ‘मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि ऐसा हो।’ बाइडेन ने कहा कि वह क्षेत्र में आतंकवाद के खिलाफ भारतीयों के साथ खड़े रहने, भारत की रक्षा क्षमताओं को मजबूत करने, दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ाने और जलवायु परिवर्तन एवं वैश्विक स्वास्थ्य जैसी वैश्विक चुनौतियों से निपटने की बात लंबे समय से करते आए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

नहीं होगी रणबीर की ‘ब्रह्मास्त्र’ रिलीज!

नई दिल्ली : एक्टर रणबीर कपूर की अपकमिंग फिल्म 'ब्रह्मास्त्र' लंबे समय से चर्चा में हैं। फैंस भी इसके रिलीज का बेसब्री से इंतजार कर आगे पढ़ें »

राजस्थान सरकार केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ लायी विधेयक

जयपुर : केंद्र द्वारा हाल ही में पारित कृषि सम्बंधी तीन कानूनों का राजस्थान के किसानों पर असर 'निष्प्रभावी' करने के लिए राज्य सरकार ने आगे पढ़ें »

ऊपर