‘पति की हत्या कैसे करें?’ की लेखिका को पति के मर्डर के लिए उम्रकैद!

नई दिल्ली : रोमांटिक कहानियां लिखने वाली एक उपन्यासकार ने एक ऑनलाइन कहानी लिख। उन्होंने इसे नाम दिया- How to Murder Your Husband (अपने पति की हत्या कैसे करें)। अब इस लेखिका को पति की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा दी गई है। मामला अमेरिका का है। लेखिका का नाम- नैंसी क्राम्पटन ब्रॉफी है। वह 71 साल की हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, 7 हफ्तों की सुनवाई के बाद पति की हत्या के मामले में उन्हें दोषी करार दे दिया गया है। हालांकि, 25 साल तक कस्टडी में रहने के बाद उन्हें पैरोल दिया जा सकता है। प्रोसेक्यूटर्स ने कहा कि साल 2018 में क्राम्पटन ब्रॉफी ने 63 साल के पति डैन ब्रॉफी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। तब वह Oregon Culinary Institute में काम करते थे। प्रोसेक्यूटर्स ने बताया कि क्राम्पटन ने हत्या इसलिए की थी क्योंकि उन्हें पति की मौत के बाद इंश्योरेंस के पैसे मिलने वाले थे। इस मामले ने इतनी सुर्खियां इसलिए बटोरी क्योंकि पति की हत्या के एक साल पहले ही नैंसी क्राम्पटन ब्रॉफी ने एक लेख लिखा था। जिसका शीर्षक ‘अपने पति की हत्या कैसे करें?’ था। हालांकि, उनके लेख को सबूत के तौर पर कोर्ट में पेश करने की अनुमति नहीं दी गई थी। प्रोसेक्यूटर्स ने ज्यूरी सदस्यों को बताया था कि मर्डर के समय कपल फाइनेंशियल कठिनाइयों से जूझ रहा था। उन लोगों ने बताया कि उस समय क्राम्पटन ब्रॉफी ने ऑनलाइन ‘ghost gun’ पर रिसर्च किया था और फिर बाद में खरीद लिया था। कुछ समय बाद क्राम्पटन ने एक गन शो से Glock 17 handgun भी खरीदी थी।
हालांकि, इन आरोपों के खिलाफ नैंसी क्राम्पटन ब्रॉफी के वकील ने भी कई तर्क दिए। उन्होंने कहा कि यह सारे सबूत महज संयोग है। क्राम्पटन के वकील ने कई गवाहों को भी पेश किया जिन्होंने क्राम्पटन और डैन के गहरे रिश्ते के बारे में कोर्ट को बताया। नैंसी क्राम्पटन ने खुद भी कोर्ट को बताया कि वह और उनके पति, दोनों ने लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदी थी। यह उन दोनों के रिटायरमेंट प्लान का हिस्सा था। उन्होंने कहा कि ghost guns के बारे में उनका रिसर्च आने वाले नॉवेल के लिए था।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कोरोनाकाल भूल गया कुम्हारटोली, प्री कोविड वाली रौनक लौटने लगी

10 दिन पहले ही प्रतिमा आ जायेगी पंडालों में यूनेस्को ने बंगाल के दुर्गापूजा उत्सव को दिया है सांस्कृतिक विरासत का दर्जा एक नजर इस पर कोलकाता में आगे पढ़ें »

ऊपर