चीन संग सीमा विवाद के बीच फ्रांस ने भारत को सौंपे 5 और राफेल

नयी दिल्ली : लद्दाख में सीमा विवाद को लेकर चीन से जारी गतिरोध के बीच फ्रांस ने भारत को राफेल लड़ाकू विमानों के अगले बैच को सौंप दिया है। इस बैच में शामिल पांचों विमान अभी फ्रांस की धरती पर ही मौजूद हैं। माना जा रहा है कि अक्टूबर में ये राफेल विमान भारत पहुंचेंगे। इन विमानों को पश्चिम बंगाल में स्थित कलईकुंडा एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात किया जाएगा। जो चीन से लगती पूर्वी सीमा की रखवाली करेंगे। राफेल के पहले बैच में शामिल पांच विमानों को 10 सितंबर को एक औपचारिक कार्यक्रम के दौरान भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था। भारत में फ्रांस के राजदूत इमेनुअल लेनिन ने भारत में फ्रांस के राजदूत इमेनुअल लेनिन ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अब भारतीय वायुसेना पर यह निर्भर है कि वे कब इन विमानों को भारत लाते हैं। इसके साथ ही उन्होंने भारतीय वायुसेना के पायलटों की तारीफ करते हुए उन्हें उत्कृष्ट करार दिया। गौरतलब है कि राफेल के आने से भारतीय वायुसेना की ताकत में कई गुना इजाफा हो गया है। भारत के लिए राफेल एक मील का पत्थर माना जा रहा है। बता दें कि पांच राफेल जेट विमानों का पहला बैच इसी साल 29 जुलाई को भारत पहुंच गया था। 2016 में भारत और फ्रांस के बीच 36 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिये 59,000 करोड़ रुपये समझौता हुआ था। राफेल 4.5 जेनरेशन का लड़ाकू विमान है। भारत और फ्रांस के साथ हुए करार के मुताबिक 2022 तक भारत को 36 राफेल जेट भारत को मिल जाएंगे। पहले 18 राफेल जेट अंबाला एयरबेस में रखे जाएंगे, जबकि बाकी के 18 विमान पूर्वोत्तर के हाशीमारा में तैनात किये जाने का प्लान है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मायावती का अखिलेश पर बड़ा हमला, कहा – ‘सपा को हराने के लिए किसी को भी देंगे समर्थन’

- मुलायम के बाद अब अखिलेश की भी होगी बुरी गति : मायावती का बयान लखनउ: उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव को लेकर मचे सियासी हलचल आगे पढ़ें »

बाल-बाल बचे भाजपा सांसद मनोज तिवारी, हेलीकॉप्‍टर की कराई गई इमरजेंसी लैंडिंग

पटना : बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार के लिए जा रहे फिल्‍म स्टार व भाजपा सांसद मनोज तिवारी एक बड़े हादसे का शिकार होने से बाल-बाल आगे पढ़ें »

ऊपर