जर्मनी के पूर्व राष्ट्रपति के बेटे की चाकू से की हत्या

germany

बर्लिन : जर्मनी के पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड फोन के बेटे की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गयी। बर्लिन शहर में एक अस्पताल में घुसकर हमलावर ने फ्रित्ज फोन वायझॅकर (59) पर चाकू से हमला कर इस हत्या को अंजाम दिया। मंगलवार शाम को अस्पताल में किए गए हमले में एक अन्य व्यक्ति के गंभीर रूप से घायल होने की खबर है। पुलिस ने बुधवार को इस घटना की जानकारी दी। फिलहाल इस हमले के पीछे की वजह का स्पष्ट नहीं है। पुलिस इसकी जांच में जुट गई है।

अस्पताल में व्याख्यान देने पहुंचे थे फ्रित्ज

पुलिस सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली है कि पेशे से डॉक्टर फोन वायझॅकर पश्चिम बर्लिन के पास शालोर्टेनबर्ग में श्लॉसपार्क अस्पताल में व्याख्यान देने पहुंचे थे। यहां उन्होंने लिवर की बीमारी पर व्याख्यान दिया था जिसके कुछ समय बाद ही उनपर चाकू से जानलेवा हमला किया गया। घटना के बाद उन्हें बचाने का प्रयास किया गया लेकिन उनकी मौत हो गयी।वहां उपस्थित लोगों ने हमलावर को पकड़ने की कोशिश की जिसपर उसने खुद को छुड़ाने के उनपर हमला किया। इस हमले में एक व्यक्ति गंभीर रूप से जख्मी हो गया। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

‘आखिर किस दुनिया में जी रहे हैं हम

लिबरल एफडीपी पार्टी के प्रमुख क्रिश्चियन लिंडनेर ने सोशल मीडिया के जरिए ट्वीट कर अपने मित्र की मौत पर दुख प्रकट किया है। उन्होंने कहा, ‘‘हमें खुद से एक बार फिर यह सवाल पूछने की जरूरत है कि आखिर हम किस दुनिया में जी रहे हैं।’’ उल्लेखनीय है कि वायझॅकर शादीशुदा थे और चार बच्चों के पिता थे। उनके पिता रिचर्ड फोन वायझॅकर को जर्मनी के बेहतरीन नेताओं में गिना जाता है जिन्होंने 1984 से 1990 तक पश्चिम जर्मनी के राष्ट्रपति का पद संभाला था और इसके बाद 1990 से 1994 में वे एकीकृत जर्मनी में भी इसी पद पर रहे। 2015 में उनका देहांत हो गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर