कोरोना महामारी से 2021 में और बढ़ेगी मानवीय मदद की आवश्यकता : संयुक्त राष्ट्र

जिनेवा : संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के कार्यालय ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इस साल मानवीय मदद की आवश्यकता अप्रत्याशित रूप से बढ़ गई है और 2021 में 23 करोड़ 50 लाख लोगों को मदद की जरूरत पड़ने का पूर्वानुमान है। इसका कारण कोरोना वायरस वैश्विक महामारी और संघर्षों, प्रवासियों की समस्याओं एवं ग्लोबल वार्मिंग समेत वैश्विक चुनौतियां हैं।

40% अधिक लोगों को मदद की जरूरत : मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (ओसीएचए) का पूर्वानुमान है कि इस साल की तुलना में 2021 में 40 प्रतिशत अधिक लोगों को इस प्रकार की मदद की आवश्यकता होगी। ओसीएचए ने मंगलवार को अपने ताजा वार्षिक ‘वैश्विक मानवीय अवलोकन’ में कहा कि जरूरतमंद 16 करोड़ लोगों तक पहुंचने के लिए उसे 35 अरब डॉलर की आवश्यकता होगी। यह राशि 17 अरब डॉलर की उस राशि के दुगुने से भी अधिक है, जो इस साल अंतरराष्ट्रीय मानवीय मदद के लिए दान के रूप में अब तक मिली है।

औसत आयु प्रत्याशा दर गिरेगी : संयुक्त राष्ट्र मानवीय मामलों के प्रमुख मार्क लोकॉक ने कहा कि इस साल मानवीय सहायता की आवश्यकता के पूर्वानुमान की तस्वीर सबसे निराशाजनक एवं अंधकारमय है और इसका कारण यह है कि वैश्विक महामारी ने पृथ्वी पर सबसे कमजोर एवं वंचित देशों को सर्वाधिक नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कहा, ‘1990 के दशक के बाद से पहली बार अत्यधिक गरीबी बढ़ेगी, औसत आयु प्रत्याशा दर गिरेगी तथा एचआईवी, टीबी और मलेरिया से मरने वालों की वार्षिक संख्या दुगुनी होगी। हमें भुखमरी झेल रहे लोगों की संख्या भी लगभग दुगुनी होने की आशंका है।’

बड़े स्तर पर अकाल की आशंका : संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि मानवीय मदद का बजट कोविड-19 के असर के कारण बेहद कम पड़ रहा है। लोकॉक ने कहा कि यमन में ‘बड़े स्तर पर अकाल’ का खतरा है। संकटग्रस्त सीरिया को बड़ी वित्तीय मदद की आवश्यकता हैं। ओसीएचए ने कहा कि इनके अलावा अफगानिस्तान, कांगो, हैती, नाइजीरिया, दक्षिण सूडान, यूक्रेन और वेनेजुएला को मदद की आवश्यकता है। इस सूची में शामिल नए नामों में मोजाम्बिक, पाकिस्तान और जिम्बाब्वे भी शामिल हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

बॉर्डर पर फिर झड़प, चीन के 20 सैनिक घायल, सिक्किम में भारतीय सैनिकों ने खदेड़ा

नई दिल्ली : पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनाव के बीच सिक्किम में भारत और चीन की सेना के बीच झड़प आगे पढ़ें »

पौष्टिक हो सुबह का नाश्ता

रात के भोजन एवं सुबह के नाश्ते के बीच का अंतर 10 से 12 घंटे तक हो जाता है। हमारा शरीर निद्रावस्था में भी ऊर्जा आगे पढ़ें »

ऊपर