सिर्फ भारत के विमान को क्यों नहीं उतरने दे रहा चीन?

china

नई दिल्ली : कोरोना वायरस से चीन में हो रही मौतों के बीच फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए भेजे गए विमान को चीन प्रशासन की ओर से मंजूरी नहीं मिल रही है। अधिकारियों का कहना है कि चीन जानबूझकर भारतीय विमान को मंजूरी देने में देरी कर रहा है। सूत्रों के अनुसार, भारत की ओर से राहत सामग्री ले जाने वाले विमान को चीन अनुमति नहीं दे रहा है। अनुमति न मिल पाने से भारतीय वायुसेना के इस विमान को वुहान भेजने में देरी हो रही है। इसी विमान के जरिए चीन के वुहान में फंसे भारतीयों को वापस लाया जाएगा। खास बात यह है कि वह जापान और फ्रांस के विमानों को अपने नागरिकों को निकालने की अनुमति दे चुका है।

21 फरवरी को वुह‌ान भेजा जाना था विमान

वुहान में फंसे भारतीयों तक राहत सामग्री पहुंचाने और उनको वापस लाने के लिए भारतीय वायु सेना का सबसे बड़ा विमान सी-17 ग्लोबमास्टर पिछले दो दिनों से चीन की अनुमति का इंतजार कर रहा है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि ‘चीन ने किसी तरह की देरी से इनकार किया है। उनकी ओर से भारतीय विमान को मंजूरी न दिए जाने की कोई स्पष्ट वजह भी नहीं बताई गई।’ 21 फरवरी को यह विमान सहायता के लिए वुहान में भेजा जाना था, लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो सका है। पिछले हफ्ते ही भारत ने चीन को दवाएं और अन्य चिकित्सा सामग्री देने का ऐलान किया था।

संक्रमण से करीब 2 हजार की मौत

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस संक्रमण से चीन में अब तक 2 हजार से भी ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। वहीं, करीब 75 हजार मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इस संक्रमण से सबसे ज्यादा हुबेई प्रांत के लोग प्रभावित हुए हैं। शुक्रवार को चीन के स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि महामारी के खिलाफ लड़ाई में बीजिंग की कोशिशें कारगर साबित हो रही हैं। देश में लगभग एक महीने के बाद संक्रमण के मामलों में कमी देखी गई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों को मेरे खेल के खत्म होने के बारे में लिखने की आदत है, मुझे फर्क नहीं : सुशील

नयी दिल्ली : दिग्गज पहलवान सुशील कुमार उम्र के ऐसे पड़ाव पर है जहां ज्यादातर खिलाड़ी संन्यास की घोषणा कर देते है लेकिन ओलंपिक में आगे पढ़ें »

कोरोना से हुए नुकसान को कम करने के लिए सरकार जल्द नए राहत पैकेजों की घोषणा करेगी

नई दिल्ली : कोरोना के कारण हुए लॉक डाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। वित्त मंत्रालय लगातार राहत पैकेज पर आगे पढ़ें »

ऊपर