70% लोगों ने भी यदि मास्क पहना होता तो महामारी का विस्तार थम जाता

सिंगापुर : कोरोना महामारी ने ​विश्व में हाहाकार मचाते हुए विज्ञान और तकनीक को भी घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है। परंतु एक अध्ययन के मुताबिक, इस वैश्विक महामारी को इतना विकराल रूप लेने से रोका जा सकता था अगर 70 प्रतिशत लोगों ने भी लगातार मास्क पहना होता। इस अध्ययन में इसके साथ यह भी कहा गया है कि आम कपड़े से भी लगातार मुंह ढ़कने से संक्रमण फैलने की दर कम हो सकती है। मास्क बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री और उसे पहनने की अवधि के उसके असर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के संबंध में किए गए अध्ययनों की समीक्षा में यह बात सामने आई है।

आम कपड़े से मुंह ढ़कने से संक्रमण दर कम होता

पत्रिका ‘फिजिक्स ऑफ फ्लुइड्स’ में प्रकाशित इस अध्ययन में, ‘फेस मास्क’ पर किए गए अध्ययनों का आकलन किया गया और इस पर महामारी विज्ञान की रिपोर्टों की समीक्षा कर यह जानने की कोशिश की गई कि आखिर क्या ये एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे लोगों को संक्रमित करने की संख्या को कम करने में मदद करते हैं।

अध्ययन में कहा गया, ‘अत्यधिक प्रभावकारी फेस मास्क, जैसे कि लगभग 70 प्रतिशत अनुमानित प्रभावकारिता वाले सर्जिकल मास्क को अगर 70 प्रतिशत लोगों ने भी सार्वजनिक स्थानों पर पहना होता तो वैश्विक महामारी के प्रकोप को कम किया जा सकता था।’ अध्ययन के शोधकर्ताओं में ‘नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर’ के संजय कुमार भी शामिल थे। कुमार ने कहा, ‘यहां तक की आम कपड़े से भी लगातार मुंह ढ़कने से संक्रमण फैलने की दर कम हो सकती है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

वनडे रैंकिंग में कोहली व रोहित का जलवा बरकरार

दुबई : आईसीसी (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) की वनडे बल्लेबाजों की रैंकिंग में भारतीय कप्तान विराट कोहली और सीनियर बल्लेबाज रोहित शर्मा ने क्रमश: पहला और आगे पढ़ें »

चतरा: जेल अदालत का हुआ आयोजन, 4 बंदी रिहा

चतरा : राष्ट्रीय विधिक व राज्य विधिक सेवा प्राधिकार के निर्देशानुसार जेल अदालत का आयोजन किया गया। गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में स्थानीय मण्डल कारा आगे पढ़ें »

ऊपर