बोलिविया में बिना मतदान के अनेज ने खुद को घोषित किया राष्ट्रपति

anez

नई दिल्ली : बोलिविया सीनेट के दूसरे वाइस स्पीकर जीनिन अनेज ने खुद को देश का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित कर दिया है। यह घोषणा अनेज ने पूर्व राष्ट्रपति इवो मोरालेस के इस्तीफे के बाद की है। संसद में सत्ता के हस्तांतरण पर मतदान के बिना ही यह घोषणा कर दी गयी। इससे पहले बोलीविया के पूर्व राष्ट्रपति इवो मोरालेस के इस्तीफे को औपचारिक तौर पर स्वीकार करने और श्री अनेज को अंतरिम राष्ट्रपति नियुक्त करने के लिए मंगलवार को संसद की आपात बैठक आयोजित की गई थी लेकिन मूवमेंट फॉर सोशलिज्म (एमएएस) और मोरालेस पॉपुलिस्ट पार्टी के सांसदों ने इस बैठक में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया था।

आने वाले चुनावों की तैयारी शुरु

स्‍थानीय सूत्रों ने जानकारी दी है कि बोलिवियाई सांसदों के अनुसार राष्ट्रपति पद के चुनाव की तैयारी के कुछ समय बाद ही राष्ट्रपति इवो मोरालेस के इस्तीफे पर औपचारिक रूप से सहमति नहीं मिल पा रही थी। एक मीडिया एजेंसी के अनुसार, अनेज ने अपने फैसले की घोषणा करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने आने वाले चुनावों को देखते हुए तैयारी शुरु कर दी है। स्वयं को बोलिविया का राष्ट्रपति घोषित करते हुए अनेज ने कहा, ‘‘सविधान के अनुसार और सीनेट के अध्यक्ष के तौर पर मैं खुद को देश का राष्ट्रपति घोषित करती हूं और यह शपथ लेती हूं कि देश में शान्ति स्थापित करने के लिए हर संभव प्रयास करूँगी।’’

पूर्व राष्ट्रपति ने की अनेज के फैसले की निंदा

हालांकि पूर्व राष्ट्रपति श्री मोरालेस ने अनेज के इस फैसले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने इसे देेश के इतिहास में अब तक का सबसे विनाशकारी फैसला बताया है। उन्होंने कहा-“एक तख्तापलट करने वाला दक्षिणपंथी सांसद खुद को सीनेट का अध्यक्ष बताता है और बिना सांसदों के अनुमोदन के खुद को देश का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित कर देता है। मैं अंतराष्ट्रीय समुदाय के सामने यह कहना चाहता हूं कि अनेज ने बोलिविया के संविधान का उल्लंघन किया है। खुद को देश का राष्ट्रपति घोषित करने ‌का अनेज का फैसला निंदनीय है। गौरतलब है कि बोलीविया में चल रहे विरोध-प्रदर्शन के बीच मोरालेस और उपराष्ट्रपति अलवारो गार्सिया लिनेरा ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

विंग कमांडर के आग्रह पर दिया था इस्तीफा

बता दें कि बोलिविया सेना के विंग कमांडर विलियम कालिमा के आग्रह पर मोरालेस और लिनेरा ने अपना इस्तीफा देने की घोषणा की थी। देश में हिंसा की ‌स्थिति को देखते हुए यह निर्णय लिया था। मोरालेस के दूसरी बार चुनाव में जीतने के बाद 20 अक्टूबर से वहां विरोध-प्रदर्शन जारी है। दरअसल चुनावी परिणामों पर धांधली का आरोप लगाते हुए देश की विपक्षी पार्टियों ने इन परिणामों को मानने से इनकार कर दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बाहरी लोगों को नागरिकता, 25 साल तक मतदान का अधिकार नहीं -शिवसेना

नई दिल्ली : केंद्रिय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल पेश कर दिया है। इस बिल को लेकर देशभर में आगे पढ़ें »

सीआरपीएफ कैंप में सिपाही ने कमांडर को मारी गोली,खुद को भी उड़ाया

रांची : झारखंड की राजधानी रांची से बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां खेलगांव में सीआरपीएफ कैंप में सोमवार सुबह फायरिंग की गयी है आगे पढ़ें »

momota

पश्चिम बंगाल सबसे कम भ्रष्ट राज्यों में से एक के रूप में उभरा के : ममता बनर्जी

कर्नाटक उपचुनाव नतीजे : भाजपा 12 सीटों पर आगे,कांग्रेस ने मानी हार

भारतीय कंपनियों द्वारा विदेशी बाजारों से लिए गए कर्ज की राशि हुई दोगुनी

rahman

बलात्कारियों को मारने के बदले जिंदगी भर जेल में सड़ने के लिए छोड़ देना चाहिए : वहीदा रहमान

पंचायतों में बनेगा ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’,सरकार का गांवों की तरफ रुख

sonia

73 की हुईं सोनिया गांधी, पीएम मोदी सहित कई नेताओं ने दी बधाई

पेश हुआ नागरिक संसोधन बिल, शाह बोले- बिल अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं

muzffarpur

दुष्कर्म में नाकाम रहने पर पड़ोसी ने युवती को लगाई आग, डॉक्टर ने कहा- बचना मुश्किल

ऊपर