फ्रांस में टीचर की हत्या के बाद मस्जिदों पर ताला, सड़कों पर लोग

नई दिल्‍ली : फ्रांस की राजधानी में पेरिस में अध्यापक की सरेआम हत्या के बाद से भय का माहौल है। इस घटना के बाद सरकार इस्लामिक संगठनों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। कई जगह मस्जिदों को बंद कर दिया गया है। इस कार्रवाई के तहत पेरिस के उपनगर में स्थित एक मस्जिद को बंद करने का फैसला किया गया है। फ्रांस के गृह मंत्रालय के आदेश के अनुसार, इस मस्जिद को 6 महीनों के लिए बंद किया जाएगा। मालूम हो कि गत शुक्रवार को 47 वर्षीय इतिहास के अध्यापक ने बच्चों को पढ़ाते समय पैगंबर मुहम्मद का कार्टून दिखाया था। इसी कारण एक छात्र ने गला काटकर उनकी हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद से ही लोगों में गुस्‍सा है।
देश में इस्लामिक कट्टरपंथ के खिलाफ ऐक्‍शन में सरकार
फ्रांस में इस्‍लामिक कट्टरपंथ के खिलाफ सरकार ऐक्शन में है। बड़ी संख्या में संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया है। वहां धार्मिक आजादी को लेकर एक बहस छिड़ गई है। फ्रांस के अलावा यूरोप में भी जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। बता दें कि हत्यारे का नाम अब्दुल्ला अजारोव है और उस अध्यापक का नाम सैमुअल पेटी था। हत्या करने वाले अब्दुल्ला की उम्र 18 साल है और उसके माता-पिता चेचन्या के मुसलमान हैं। अब्दुल्ला ने सैमुअल पेटी की हत्या इसलिए की कि उसने अपने छात्रों को अभिव्यक्ति की आजादी के बारे में पढ़ाते हुए पैगंबर मोहम्मद के कुछ कार्टून दिखा दिए थे।
शहीद अध्यापक के लिए फ्रांसीसी सरकार ने अपने सर्वोच्च सम्मान की घोषणा की

अध्यापक पेटी की हत्या के बाद से ही पूरे यूरोप में रोष की लहर फैल गई।  फ्रांस के गृहमंत्री ने कहा है कि हमारे ‘गणराज्य के दुश्मनों को हम एक मिनट भी चैन से नहीं बैठने देंगे।’ ‘शहीद अध्यापक’ के लिए फ्रांसीसी सरकार ने अपने सर्वोच्च सम्मान की घोषणा की है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कुछ दिन पहले ही कहा था कि वे ‘इस्लामी अलगाववाद’ के खिलाफ जोरदार अभियान चलाएंगे।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले टी-20 में भारत 11 रन से जीता

कैनबराः भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 टी-20 की सीरीज के पहले मैच में 11 रन से हरा दिया। टीम इंडिया पिछले 10 टी-20 मैच से आगे पढ़ें »

भारत में न्यूनतम मजदूरी पड़ोसी देशों से भी कम

नई दिल्ली : इंटरनेशनल लेबर आर्गनाइजेशन (आईएलओ) की नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत के मजदूरों पर कोरोना माहामारी और लॉकडाउन की आगे पढ़ें »

ऊपर