स्विट्जरलैंड में महिलाएं सड़क पर उतरीं, आग जलाकर फेंक दिए अपने कपड़े और टाई

जिनेवाः स्विट्जरलैंड में महिलाएं अपनी-अपनी नौकरियां छोड़कर सड़कों पर उतर आयी हैं। वे उचित वेतन, समानता, यौन उत्पीड़न एवं हिंसा की रोकथाम की मांग कर रही हैं। महिलाएं अपने अंत:वस्त्रों को जलाकर रोष प्रकट कर रही हैं और प्रदर्शन कर रही हैं। देश में 28 साल में इस तरह का महिलाओं का यह पहला प्रदर्शन है। इनमें कई महिलाएं घरेलू सहायिकाओं, शिक्षिकाओं और देखभाल का काम करने वाली महिलाओं के लिये अधिक वेतन की मांग कर रही हैं। आमतौर इस तरह का काम महिलाएं ही करती हैं।
लैंगिकता को लेकर नाराजगी और कार्यस्थल पर जड़ें जमाती असमानता को लेकर बढ़ते आक्रोश ने स्विट्जरलैंड में ‘महिला आंदोलन’ को जन्म दिया। लौसेन में मध्यरात्रि में सैकड़ों की तादाद में महिलाएं एकजुट हुईं और शहर के कैथेड्रल में रैली निकालते हुए शहर के केंद्र की ओर मार्च निकाला, जहां उन्होंने लकड़ियों में आग लगायी और फिर उस आग में अपनी टाई, अंत:वस्त्रों को फेंक दिया। महिलाओं के इस प्रदर्शन को ‘पर्पल वेव’ कहा गया क्योंकि इस प्रदर्शन के लिये महिलाओं ने पर्पल (जामुनी) रंग को चुना था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Ramjan Ali

बेलूर में संस्कृत पढ़ाएंगे मुस्लिम प्रोफेसर

कोलकाता : कोलकाता के बाहरी क्षेत्र में स्थित एक कॉलेज के संस्कृत विभाग में एक मुस्लिम व्यक्ति को सहायक प्राध्यापक के तौर पर नियुक्त किया आगे पढ़ें »

locket

पश्चिम बंगाल में पैरा शिक्षकों की हड़ताल मुद्दे पर लोकसभा में भाजपा, तृणमूल सदस्यों में तकरार

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में पैरा शिक्षकों की हड़ताल के मुद्दे पर लोकसभा में शुक्रवार को भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों के बीच नोकझोंक आगे पढ़ें »

ऊपर