अमेरिका समर्थित बलों ने इस्लामिक स्टेट पर जीत का ऐलान किया

बघौजः अमेरिका समर्थित बलों ने शनिवार को सीरिया के आखिरी इलाके के बघौज गांव पर कब्जा कर जीत हासिल कर ली है। उसने इस्लामिक स्टेट पर जीत हासिल करने के बाद कहा कि इस्लामिक खिलाफत को पूरी तरह से समाप्त कर दिया गया है।
सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज के प्रवक्ता मुस्तफा बाली ने ट्वीट कर कहा ‘बघौज अब स्वतंत्र है और आईएसआईएस के खिलाफ सेना ने जीत हासिल की है’। बता दें कि बघौज में आईएस के अंतिम गढ़ था। अमेरिका और उसके सहयोगियों द्वारा इस क्षेत्र पर जीत हासिल करने के लिए एक लंबा समय लगा। तकरीबन पांच साल की जंग के बाद यहां पर कब्जा किया गया। इसमें 100,000 से अधिक बमों को इस्तेमाल हुआ और मौतों का आंकड़ा बताना काफी मुश्किल है। एक दिन पहले, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी इस बात की जानकारी दी थी कि इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी का अब सीरिया में किसी भी क्षेत्र पर कोई नियंत्रण नहीं रहा हैं।
बताया गया कि बघौज में पत्रकारों ने शनिवार को मोर्टार और गोलियों की आवाज सुनने की सूचना दी, जो बघौज की ओर से आ रही थी, जहां एक दिन पहले अमेरिकी नेतृत्व वाले गठबंधन ने हवाई हमले किए गए थे। हालांकि एसडीएफ के प्रवक्ता किनो गेब्रियल ने शुक्रवार को एपी एजेंसी को बताया कि अभी भी आईएस के लड़ाके बघौज के पास गुफाओं में छिपे हुए हैं और अभी भी इन पर कार्रवाई जारी है।
इस्लामिक स्टेट पर जीत पाना बेहद जरूरी हो चला था। आईएस समूह ने सीरिया और इराक दोनों में एक तिहाई शासन किया। लाखों लोगों को इस्लामिक कानून की तरफ से कठोर सजा दी जाती रही और हिंसक व्याख्या के लिए बंधक बना लिया जाता था। आतंकी संगठन ने बड़े पैमाने पर नरसंहार किए। यहां तक की 2014 में हजारों महिलाओं और लड़कियों को पकड़ कर उन्हें गुलामी में मजबूर कर दिया गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

dilip

प‌श्चिम बंगाल में नागरिकता कानून लागू होकर रहेगा, ममता इसे नहीं रोक सकतीं: दिलीप घोष

कोलकाता : पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने नागरिकता कानून को लेकर शुक्रवार को राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर करारा हमला किया। उन्होंने आगे पढ़ें »

अल्पसंख्यकों के लिए सबसे सुरक्षित देश है भारतः मालदीव के पूर्व राष्‍ट्रपति मोहम्मद नशीद

नयी दिल्ली : नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर देशभर में विशेषकर पूर्वोत्तर राज्यों में हिंसात्मक विरोध जारी है। इस बीच भारत के पड़ोसी देश मालदीव आगे पढ़ें »

ऊपर