साढ़े चार फुट का डबल डेकर बस ड्राइवर!

नई दिल्लीः अगर हम कोई काम करने की ठान लें तो रास्ता खुद ब खुद ही निकल आता है, मुश्किलें तो महज मन में बसने वाला डर है जिस पर चाहत के सहारे अमल किया जा सकता है। आज हम बात कर रहे हैं इंग्लैंड के फ्रैंक हैचम डबल डेकर मिनी बस चालक कि जिनकी उम्र 55 साल है लेकिन कद 4 फीट 6 इंच है, जिसने अपने कद को अपने काम में रूकावट नहीं बनने दिया। आज वे सरलता से डबल डेकर बस चलाकर अपनी जीविका चला रहे है। वें अपने छोटे कद में डबल डेकर बस को चलाने को लेकर इतने आत्मविश्वासी है कि उन्होंने विश्व में सबसे छोटे कद में डबल डेकर बस चलाने के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम शामिल करने के लिए आवेदन भी दिया है। फ्रैंक की शादी 14 वर्ष की उम्र में हो गयी थी और इनके दो बच्चे है जिसमें पहली लड़की 10 वर्ष की है जो कद में इनसे लंबी है जबकि दूसरी लड़की 5 वर्ष की है जो कद में इनसे छोटी है क्योंक‌ि उसे अपने पिता का जीन मिला है।

बस चलाने का हटके है अंदाज

फ्रैंक ने बताया कि कम कद होना बस चलाने में कभी उनके आड़े नहीं आई। वे बस चलाते समय सीट को नीचे कर लेते है और बस के स्टीयरिंग व्हील को पास कर लेते है जिससे वे बस को आराम से चला पाते है। उन्होंने बताया कि ऐसा करने से उनको बस चलाने के लिए लंबे जूते पहनने की भी जरूरत नहीं होती। वे प्रतिदिन 700 मार्ग पर बस चलाते है। उनको बस चलाने में कोई शारीरिक बाधा नहीं होती है। उन्होंने कहा कि उनके आकार के कारण उन्हें पंजीकृत अक्षम की श्रेणी में शामिल किया गया है लेकिन वो यह दिखाना चाहते थे कि विकलांगता मंजिल हासिल करने की चाह के आगे कुछ नहीं कर सकती।

खुद को कभी छोटा नहीं माना

फ्रैंक ने कहा ‘मैंने कभी खुद को एक छोटे से व्यक्ति के रूप में नहीं सोचा है। ‘मैं हमेशा सोचता हूं कि मैं सामान्य हूं, मुझे अन्य लोगों को उत्साहित करना है। एक डबल डेकर ड्राइविंग बहुत से लोगों के लिए चुनौती है लेकिन मेरे लिए नहीं। मुझे चुनौतियां पसंद है और जीवन सबसे बड़ी चुनौती है और मैं अपना जीवन ठीक से जी रहा हूं। मैं अक्षम लोगों को दिखाना चाहता हूं कि उन्हें कहीं रुकना नहीं चाहिए।

मैंने नहीं सोचा था कि मुझे कभी नौकरी मिलेगी

फ्रेंक ने अपने पहले नौकरी के साक्षात्कार का अनुभव साझा करते हुए बताया कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि कोई मुझे कभी नौकरी देगा, लकिन मैं जब चालक के पद के लिए आवेदन करने गया था तो मैं ने मैनेजर से कहा कि मुझे यह नहीं मालूम की मैं इस नौकरी के लिए योग्य हूं क्योंकि पता नहीं कि मेरे पैर पैडल तक पहुंचेंगे या नहीं। तब मैनेजर ने मेरा आत्मविश्वास बढ़ाते हुए कहा कि फ्रेंक आप टेस्ट दीजिए। अगर आप पास हो जाएंगे तो आपके लिए हम जरूर कुछ ढूंढ निकालेंगे। फ्रेंक ने कहा कि उन्होंने टेस्ट दिया और उनकी ड्राइविंग से खुश होकर कंपनी ने उन्हें नौकरी पर रख लिया। फ्रेंक ने कहा कि उस दिन मुझे लगा कि लोग मुझे भी इंसान समझते हैं क्योंकि मैं अबतक खुद को बहुत छोटा मानता था।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

14 साल तक पुलिस की नौकरी की, अब बने डेप्युटी कलेक्टर

प्रयागराज : उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को पीसीएस 2016 परीक्षा का परिणाम घोषित हुआ। परिणाम घोषित होने के साथ इंतजार में बैठे छात्रों के साथ उनके अभिभावकों का सीना गर्व से फूल गया। घोषित परिणाम में बलिया जिले की बैरिया [Read more...]

हमारी लड़ाई कश्मीरियों के खिलाफ नहीं, कश्मीर के लिए है : मोदी

टोंक : पुलवामा हमले के बाद पाकिस्‍तान तथा वहां स्‍थित आतंकी संग्‍ाठन जैश व उसके मुखिया मसूद पर विश्‍व भर से भारी दबाव बनाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को राजस्थान में लोकसभा चुनाव प्रचार की शुरुआत की। [Read more...]

देवबंद के आतंकी पहले पकड़े जाते तो रोका जा सकता था पुलवामा हमले कोः सुरक्षा एजेंसी

दूसरा हादसाः बेंगलुरू में एयरो इंडिया शो के दौरान पार्किंग एरिया में खड़ी 100 कारों में आग लगी

जो बीसीसीआई और सरकार बोलेगी, हम वहीं करेंगे : कोहली

ग्रेटर नोएडा यमुना प्राधिकरण घोटाला मामलाः दारोगा की गिरफ्तारी के लिए आई सीबीआई टीम पर हमला, दो अधिकारी घायल

पुलवामा अटैक : कश्मीर में 10 हजार अतिरिक्त जवान तैनात होंगे

पुलवामा आतंकी हमले के विरोध में भारत कुछ बड़ा करने की सोच रहा हैः ट्रंप

असम मे जहरीली शराब के सेवन से 80 लोगों की मौत, जांच शुरू

निशानेबाजी विश्व कपः रिकार्ड स्कोर के साथ अपूर्वी ने भारत को दिलाया पहला स्वर्ण

मुख्य समाचार

प्रेमी को जमकर पीटा फिर पेट्रोल छिड़क कर जला दिया

पूर्व मिदनापुर: पूर्व मिदनापुर जिले के भूपतिनगर में एक प्रेमी युवक की पहले पिटाई की कई, बाद में शरीर पर पेट्रोल छिड़ककर फूंक दिया गया। आरोप उसकी प्रेमिका के घरवालों पर लगा है। मृतक की प्रेमिका, उसके घर के 4 [Read more...]

रेल रोको आंदोलन से चार घंटे तक ठहरी ट्रेनें

मालदहः माकपा कार्यकर्ताओं के रेल रोको आंदोलन के कारण कई स्टेशनों पर ट्रेनें घंटों खड़ी रह गईं। इससे यात्रियों को व्यापक परेशानी का सामना करना पड़ा। दरअसल 10 सूत्री मांगों के समर्थन में जिला माकपा ने शनिवार को हरिश्चंद्रपुर स्टेशन [Read more...]

ऊपर