समलैंगिक विवाह को मंजूरी देने वाला एशिया का पहला देश बना ताइवान

ताइपे : ताइवान समलैंगिक विवाह को मंजूरी देने वाला एशिया का पहला देश बन गया है। ताइवानी संसद में शुक्रवार को रूढ़िवादी सांसदों के विरोध के बावजूद समलैंगिक विवाह को कानूनी अमलीजामा पहना दिया है। अब इस देश में एक महिला की दूसरी महिला से या एक पुरुष की दूसरे पुरुष से शादी गैरकानूनी नहीं मानी जायेगी। द्वीपीय देश के सांसदों द्वारा विधेयक को मंजूरी मिलने के साथ ही वहां समलैंगिक जोड़ों को विशिष्ट स्थायी संघ बनाने और सरकारी एजेंसियों में विवाह के लिए पंजीकरण कराने का रास्ता साफ हो गया है।

समलैंगिक अधिकार समूहों ने की तारीफ

संसद में मतदान के बीच भारी बारिश के बावजूद सैकड़ों समलैंगिक अधिकार समर्थक संसद के समीप एकत्रित हो गए। समलैंगिक अधिकार समूहों ने शुक्रवार को मतदान की तारीफ करते हुए कहा कि विवाह पंजीकरण के लिए आवेदन देने का अधिकार मिलने से उनके समुदाय को अलग-अलग लिंग के दंपत्तियों के समान अधिकार मिल गया है। हालांकि इस मुद्दे को लेकर देश के लोगों की राय बंटी हुई है।

बता दें कि इंटरनेशनल डे एगेंस्ट होमोफोबिया, ट्रांसफोबिया और बाइफोबिया के दिन हुआ मतदान ताइवान के एलजीबीटी समुदाय के लिए बड़ी जीत है जिन्होंने अलग-अलग लिंग के दंपत्तियों की तरह ही समान विवाह अधिकारों के लिए वर्षों तक संघर्ष किया।

गौरतलब है कि ताइवान की शीर्ष अदालत ने कहा था कि एक ही लिंग के जोड़ों को शादी करने की अनुमति ना देना संविधान का उल्लंघन होगा। न्यायाधीश ने सरकार को कानून में बदलाव करने के लिए इस साल 24 मई तक का समय दिया है। लेकिन उनके पास कोई दिशा निर्देश नहीं है कि यह कैसे किया जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बिहार विधानसभा: भाजपा-लोजपा के बीच सीटों पर असमंजसता कायम

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों के बीच एनडीए में सीटों के बंटवारे को लेकर स्थिति अब तक साफ नहीं हो पाई है। एनडीए आगे पढ़ें »

स्कूल फीस मामले में कई विकल्पों की पेशकश

कोलकाता : स्कूल फीस में रियायत देने के मामले में दो विकल्प उभर कर सामने आए हैं। इस बाबत हाई कोर्ट के जस्टिस संजीव बनर्जी आगे पढ़ें »

ऊपर