श्रीलंका ने बैन किया बुर्का

कोलंबोः श्रीलंका में गत दिनों हुये आतंकी हमले के बाद राष्ट्रीय और सार्वजनिक सुरक्षा को देखते हुए देश में बुर्का और हिजाब पहनने पर रोक लगा दी गयी है। राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने सोमवार को कहा कि उन्होंने आपातकालीन अधिकारों के तहत यह कदम उठाया है। वहीं भारत के केरल से सोमवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) से जुड़े तीन संदिग्ध आतंक‌ियों को गिरफ्तार किया हैं। 

सुरक्षा कारणों से लिया गया फैसला

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह निर्णय सुरक्षा कारणों से लिया गया साथ ही साथ कानून प्रवर्तन एजेंसियों के काम को भी सरल बनाने के लिए किया गया। सिरिसेना ने किसी भी तरह से चेहरा ढकने को प्रतिबंधित लगा दिया है। व्यक्ति का चेहरा ढका होने से उसकी पहचान में मुश्किल होती है लिहाजा अब कोई भी चेहरा ढककर नहीं चल सकेगा। प्रतिबंध 29 अप्रैल से प्रभावी होगा। श्रीलंका में हुए हमले के सप्ताह भर बाद यह फैसला लिया गया। फैसले में स्पष्ट किया गया है कि किसी भी व्यक्ति की पहचान स्थापित करने के लिए उसके चेहरे का दिखना जरुरी है। इससे पहले सरकार ने कहा था कि जब तक प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे की इस्लामिक मौलवियों के साथ बातचीत नहीं हो जाती तब तक इस बारे में कोई फैसला नहीं लिया जा सकता, लेकिन राष्ट्रपति ने समाज में शांति स्थापित करने और राष्ट्रीय सुरक्षा को देखते हुए यह कदम उठाया है। यह फैसला किसी भी प्रकार से किसी समुदाय विशेष को असुविधा पहुंचाने के लिए नहीं लिया गया है।

श्रीलंका ब्लास्ट के मुख्य से सीधा संपर्क

केरल के कासरगाेड में हमले के मास्टरमाइंड से संपर्क की जानकारी मिली थी। इसके आधार पर केरल में तीन जगहों पर छापा मारा गया। छापे के दौरान एजेंसी ने कई मोबाइल फोन, सिम कार्ड, मेमोरी कार्ड, पेन ड्राइव, मलयालम व अरबी में लिखी डायरियों के साथ-साथ तीनों के घर से फरार इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के भाषण वाली कई डीवीडी व उसकी किताबें बरामद की हैं। जिन तीन युवाओं को पकड़ा गया है, उनका सीधा संपर्क श्रीलंका ब्लास्ट के मुख्य साजिशकर्ता जहरान हाशिम से है। फिलहाल उनसे एनआईए के हेडक्वार्र्टर में पूछताछ चल रही है। इन सभी चीजों की फोरेंसिक जांच की जाएगी। एनआईए इन तीनों संदिग्धों से गहन पूछताछ कर रही है।

भारत ने किया ‌‌था श्रीलंका को सचेत

एनआइए के अधिकारी के अनुसार कासरगोड मॉड्यूल के कई आतंकी सीरिया और इराक में आइएस में शामिल होने भी गए थे। तमिलनाडु और केरल से गिरफ्तार आतंकियों से पूछताछ और उनसे बरामद दस्तावेजों के आधार पर ही श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर चर्चो समेत भारतीय दूतावास पर आतंकी हमले की आइएस की तैयारियों की जानकारी मिली थी। इस संबंध में भारतीय एजेंसियों ने पहले ही श्रीलंका को आतंकी हमले की आशंका को लेकर सचेत कर दिया था, लेकिन वहां सुरक्षा एजेंसियां प्रभावी कदम नहीं उठा सकीं।

24 घंटे में 48 से ज्यादा संदिग्ध गिरफ्तार

बता दें कि सरकार ने रविवार को दो आतंकी समूह नेशनल तवहिद जमात (एनटीजे) और जमात-ए मिलातू इब्राहिम पर प्रतिबंध लगाया था। श्रीलंका में हमलों के तुरंत बाद आपराधिक जांच शुरू करके 100 से अधिक संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया था। साथ ही पुलिस ने पिछले 24 घंटों में देश के विभिन्न हिस्सों से कुल 48 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए लोगों में से दो वांछित भी शामिल हैं।

गौरतलब है कि ईस्टर के अवसर पर देश में घातक श्रृंखलाबद्ध विस्फोटों की घटना में सैकड़ों लोग मारे गए और घायल हुए। इसके बाद गत शुक्रवार को तीन अन्य विस्फोटों से देश का पूर्वी शहर कलमुनाई दहल उठा। श्रीलंका ने अगले नोटिस तक अपने पूर्वी हिस्से में कर्फ्यू लगा दिया। वहीं आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट(रूस में प्रतिबंधित) ने कथित तौर पर हमलों की जिम्मेदारी ली थी। अभियोजकों के अनुसार नौ आत्मघाती हमलावरों ने आतंकवादी हमलों को अंजाम दिया और उनमें से आठ की पहचान पहले ही हो चुकी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट ने भारतीय स्टा र्टअप निंजाकार्ट में किया निवेश

नई दिल्ली: वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट ने निंजाकार्ट में संयुक्त निवेश की घोषणा की है। निंजाकार्ट अपने मेड-फॉर-इंडिया बिजनेस-टु-बिजनेस (बी2बी) सप्ला्ई चेन इन्फ्रास्ट्रक्चर और टेक्नोलॉजी सॉल्यूशंस आगे पढ़ें »

दुनिया के उद्योगपति बंगाल में करें निवेश – ममता

बंगाल आपका स्वागत करता है : सीएम दीघा में शुरू हुआ दो दिवसीय बंगाल ​पिजनेस कांक्लेव सन्मार्ग संवाददाता दीघा : नये उद्योग में निवेश के लिए बंगाल की आगे पढ़ें »

ऊपर