अमेरिका में ठंड से 12 की मौत

वॉशिंगटन : भारत, अमेरिका और ब्रिटेन समेत दुनिया के कई देशों में इस बार कड़ाके की ठंड ने कई साल के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। कड़ाके की ये ठंड इस बार न केवल बहुत जल्दी शुरू हुई, बल्कि लंबी भी चल रही है। आलम ये है कि इस वर्ष भारत के उन पहाड़ी इलाकों में भी भारी बर्फबारी हुई है, जहां 10 साल से ज्यादा समय से बर्फ नहीं गिरी थी। बर्फ गिरने का ये सिलसिला अब भी जारी है। इसकी वजह आर्कटिक ब्लास्ट है। वहीं दूसरी तरफ अमेरिका में ठंड का प्रकाेप बरकरार है। अमेरिका में खून जमा देेने वाली सर्दी पड़ रही है और लोगों को ठंड से बचने के लिए घर से बाहर निकलने पर गहरी सांस न लेने और कम बात करने की चेतावनी जारी की गई है। मध्य पश्चिम अमेरिका के इलाकों में तापमान खतरनाक ढंग से नीचे पहुंच गया है। मिशिगन, आयोवा, इंडियाना, इलिनॉइस, विस्कॉन्सिन और मिनेसोटा में ठंड के कारण अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका के कई इलाकों में तापमान शून्य से 32 डिग्री तक नीचे जा चुका है। मौसम विभाग ने कहा है कि इन राज्यों में इस पीढ़ी की सबसे ज्यादा ठंड पड़ने वाली है। स्कूल व्यवस्था के लिहाज से अमेरिका के तीसरे सबसे बड़े गढ़ शिकागो में कक्षाएं रोक दी गई हैं। यहां आसपास के इलाको में तापमान शून्य से 30-40 डिग्री सेल्सियस तक नीचे चला गया है। जानकारों का कहना है कि तापमान इतना नीचे है कि अगर कोई व्यक्ति पांच मिनट भी बाहर रहे तो ठंड के संपर्क में आने वाला अंग हिमदाह का शिकार हो जाएगा। इसका अर्थ है कि उस हिस्से के ऊतक क्षतिग्रस्त हो जाएंगे। वहां नासूर भी बन सकता है।

ठंड से हजारों उड़ाने रद्द
मिनेसोटा के इंटरनेशनल हिल्स पर शून्य से 48 डिग्री कम की शीतलहर दर्ज की गई है। यह दक्षिणी ध्रुव पर स्थित अंटार्कटिका से भी ज्यादा सर्द है। वहां न्यूनतम शून्य से करीब 31 डिग्री सेल्सियस नीचे तक के तापमान की हवाएं चलती हैं। ठंड के कारण शिकागो में हजारों उड़ानें रद करनी पड़ी हैं। पैसेंजर रेल सर्विस भी रद कर दी गई है। बैंक और स्टोर भी बंद कर दिए गए हैं। कई जगहों पर वार्मिग सेंटर खोले गए हैं, जहां लोगों को सर्दी से राहत मिल सकती है। शिकागो में किसी भी कारण बाहर भटक गए लोगों को मदद देने के लिए पुलिस थानों को खुला रखा गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारत ने पाकिस्तान काे कड़े शब्दों में चेतावनी दी, कहा – ‘पीओके खाली करो’

न्यूयार्क: भारत ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को एकमात्र शेष विवाद करार देते हुए तल्ख भरे स्वर में पड़ोसी देश से कहा कि आगे पढ़ें »

बंगाल में बार, रेस्तरां संचालकों ने लोगों के बैठने की क्षमता को बढ़ाने को मांग की

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में बार और रेस्तरां के मालिकों राज्य सरकार से ग्राहकों के बैठने की क्षमता को मौजूदा 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 75 प्रतिशत आगे पढ़ें »

ऊपर