रोहिंग्या के खिलाफ नहीं हुआ था नरसंहारः म्यांमार

यंगूनः म्यांमार के रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुस्लिम समुदायों के साथ हुई हिंसा को लेकर अब यहां की सरकार ने रिपोर्ट जारी कर दी है। म्यांमार की सरकार ने चार सदस्यों वाले इंडिपेंडेंट कमीशन ऑफ इंक्वायरी (आइसीओई) की जांच रिपोर्ट में कहा है कि रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ सेना के कुछ जवानों ने युद्ध अपराध को अंजाम दिया। लेकिन आयोग ने सैन्य कार्रवाई को नरसंहार मानने से साफ इन्कार कर दिया।
दो विदेशी नागरिकों समेत चार सदस्यों वाले आयोग की रिपोर्ट में कहा गया है कि रोहिंग्या मुसलमानों के मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन हुआ। यहां तक कि निर्दोष ग्रामीणों को जान से हाथ धोना पड़ा और कई परिवारों को बेघर होना पड़ा। रोहिंग्या समुदाय के खिलाफ बड़े स्तर पर हिंसा की शिकायतों के बीच म्यांमार की यह पहली जांच रिपोर्ट है, जिसमें सेना को भी कहीं न कहीं दोषी ठहराया गया है।
मानवाधिकार संगठनों ने आइसीओई की रिपोर्ट के समय को लेकर सवाल उठाया है। उनका आरोप है कि यह इसी मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय अदालत में जारी सुनवाई के बीच ध्यान भटकाने की चाल है। म्यांमार में नरसंहार के मुद्दे पर अंतराष्ट्रीय अपराध अदालत में सुनवाई हो रही है, जिसका फैसला इसी गुरुवार को आने वाला है।
बता दें कि बौद्ध बहुल देश में 2017 में सेना की कार्रवाई के दौरान हज़ारों रोहिंग्या मारे गए और सात लाख से अधिक को भागकर पड़ोसी देश बांग्लादेश में शरण लेनी पड़ी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

उत्तर प्रदेश का बजट जनता की आकांक्षाओं के साथ छलावा : मायावती

नयी दिल्ली : बसपा की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार के बजट को जनता की अपेक्षाओं के साथ छलावा बताते हुए कहा आगे पढ़ें »

 गौतमबुद्धनगर के बिसरख इलाके में मुठभेड़ में छह बदमाशों को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया

लखनऊ : उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने गौतमबुद्धनगर के बिसरख क्षेत्र से मुठभेड़ में कपड़ा व्यवसायी की हत्या को अंजाम देने आगे पढ़ें »

ऊपर