रूस बोला- बना लिया कोरोना का टीका, पर दुनिया को शक

मॉस्को : रूस ने कोरोना वायरस के खिलाफ पहला टीका विकसित कर लिया है जो कोविड-19 से निपटने में ‘बहुत प्रभावी ढंग से’ काम करता है और ‘एक स्थायी रोग प्रतिरोधक क्षमता’ का निर्माण करता है। यह दावा रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक सरकारी बैठक में किया और कहा कि यह ‘विश्व के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण कदम’ है। साथ ही पुतिन ने खुलासा किया कि उनकी बेटियों में से एक को यह टीका पहले ही दिया जा चुका है।
18 जून को शुरू हुआ था परीक्षण
रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराश्को ने कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ पहले टीके का उत्पादन दो स्थानों – गमालेया रिसर्च इंस्टिट्यूट और बिनोफार्म कंपनी में शुरू होगा। टीके को गमालेया रिसर्च इंस्टिट्यूट और रूस के रक्षा मंत्रालय ने संयुक्त रूप से विकसित किया है। इसका परीक्षण 18 जून को शुरू हुआ था, जिसमें 38 स्वयंसेवी शामिल थे।
सवालों के घेरे में दावे
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने रूस द्वारा बनाई गई कोरोना की वैक्सीन को लेकर कई तरह की शंकाएं जताई हैं। संगठन वैक्सीन के तीसरे चरण को लेकर संशय में है। संगठन के प्रवक्ता क्रिस्टियन लिंडमियर ने कहा कि अगर किसी वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल किए बगैर ही उसके उत्पादन के लिए लाइसेंस जारी कर दिया जाता है, तो इसे खतरनाक मानना ही पड़ेगा।
डब्लूएचओ से लेकर अमेरिका तक को संदेह
जानकारी के अनुसार, इस टीके के क्लिनिकल ट्रायल पूरा हुए बिना आम नागरिकों पर इसके इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है, यही कारण है कि इसकी सुरक्षा और असर को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन सहित कई देशों का मानना ​​है कि जिस तरह से इस टीके के ट्रायल की प्रक्रिया है, रूस उसके पूरी होने के पहले ही टीके की सटीकता का दावा कर रहा है जो कि गलत है। गत् सप्ताह जहां विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (डब्‍ल्‍यूएचओ) ने रूस की कोरोना वैक्सीन की जल्दबाजी को लेकर आगाह किया था, वहीं अमेरिका के शीर्ष स्वास्थ्य विशेषज्ञ एंथोनी फॉसी ने टीके को लेकर रूस और चीन दोनों के ऊपर सही प्रक्रिया का पालन करने पर संदेह जताया है।
इस वजह से उठ रहे सवाल
ताजा रिपोर्ट के अनुसार, टीके के दूसरे चरण का परीक्षण 13 जुलाई को शुरू हुआ और 3 अगस्त को ही रूसी मीडिया ने यह खबर दी कि गामालेया शोध संस्थान ने टीके का नैदानिक (क्लिनिकल) परीक्षण पूरा कर लिया है। हाालंकि, इन रिपोर्ट्स में यह स्पष्ट नहीं किया गया था कि क्या केवल दूसरा चरण पूरा हुआ है या तीनों चरण पूरे किए हैं। दूसरे चरण में ही कुछ महीनों का समय लग जाता है। उल्लेखनीय बात यह है कि रूस ने पहले संकेत दिए थे कि नियामक से अनुमति मिलने के बाद ही मानवीय परीक्षण का तीसरा चरण पूरा किया जाएगा। इस चरण में हजारों लोगों पर परीक्षण किया जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मेरे लिये अकल्पनीय है कि मैं वहां नहीं हूं : रैना

दुबई : इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) से हटने वाले सुरेश रैना ने टूर्नामेंट के शुरूआती मैच से पहले चेन्नई सुपरकिंग्स टीम को अपनी शुभकामनायें देते आगे पढ़ें »

स्मिथ, आर्चर, बटलर कोविड-19 जांच में नेगेटिव, चयन के लिये उपलब्ध

दुबई : कप्तान स्टीव स्मिथ सहित स्टार खिलाड़ी जोफ्रा आर्चर और जोस बटलर यहां पहुंचने के बाद अनिवार्य कोविड-19 परीक्षण में नेगेटिव आये हैं और आगे पढ़ें »

ऊपर