मुंबई हमले के मुख्य साजिशकर्ता को हर महीने 1.5 लाख रुपये देगा पाकिस्तान

इमरान खान के प्रस्ताव को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मंजूरी
इस्लामाबाद: 26/11 मुंबई हमले के मुख्य साजिशकर्ता और लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी को पाकिस्तान सरकार हर महीने डेढ़ लाख रुपये देगी। इमरान खान सरकार के इस सम्बंध में भेजे गये प्रस्ताव को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति ने स्वीकृति दे दी है। मालूम हो कि 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले में लखवी का हाथ सामने आने पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने इसे प्रतिबंधित आतंकियों की सूची में डाला था।
लखवी को हर महीने खाने के लिए 50 हजार रुपये, दवा के लिए 45 हजार, अन्य खर्च के लिए 20 हजार, वकील की फीस के लिए 20 हजार और यात्रा के लिए 15 हजार रुपये दिये जायेंगे। मुंबई आतंकी हमले के आरोप में जेल में कैद लखवी को पाकिस्तान सरकार ने अप्रैल 2015 में यह कहते हुए रिहा कर दिया था कि लखवी के खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं मिले हैं। रावलपिंडी के अडियाला जेल से रिहा होने के बाद लखवी काफी अरसे तक अंडरग्राउंड रहा लेकिन उसने आतंकी संगठन का नेतृत्व जारी रखा। लखवी के अंतरराष्ट्रीय आतंकी और जमात उल दावा के प्रमुख हाफिज सईद से करीबी संबंध हैं। समझा जाता है कि संगठन में लखवी की हैसियत नंबर दो की है। मुंबई हमले को लेकर पकड़े गये आतंकी अजमल कसाब, डेविड हेडली व अबू जुंदाल ने भी पूछताछ में लखवी का नाम लिया था। खुफिया एजेंसियों के अनुसार भी लखवी आतंकी हमले के दौरान आतंकियों के संपर्क में था। लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर लखवी पहली बार 1999 में चर्चा में आया था जब भारत के खिलाफ हुए मुर्दिके सम्मेलन में लखवी ने खूब जहर उगला था। बाद में वह कई आतंकी घटनाओं में शामिल रहा और उसका कद बढ़ता गया। माना जाता है कि 2006 में मुंबई की लोकल ट्रेनों में हुए विस्फोट के पीछे भी लखवी का हाथ था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले सीएम ने लगायी फटकार, फिर किया दुलार

पुरुलिया : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जिले के हुटमुड़ा मैदान में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। उनके संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का आगे पढ़ें »

धुपगुड़ी में दर्दनाक हादसा : डम्पर के नीचे दबकर 14 लोगों की मौत

सन्मार्ग संवाददाता, धुपगुड़ी/कोलकाता : मंगलवार की रात धुपगुड़ी में हुए दर्दनाक हादसे में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गयी। पत्थर ढोने वाले आगे पढ़ें »

ऊपर