दिखा असर : चीन ने कहा- मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट बनाने पर तेजी से आगे बढ़ रहे हैं

पेइचिंग : पुलवामा अटैक सहित भारत में अनगिनत आतंकी हमलों के मास्‍टर माइंड तथा पाकिस्तान से संचालित संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्‍विक आतंकी घोषित करने के भारत के प्रयास को लगता है कि जल्‍द ही सफलता हासिल हो जायेगा जब्‍ा संयुक्त राष्ट्र द्वारा अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रयासों के बीच चीन ने सकारात्मक संकेत दिए हैं। सोमवार को चीन ने दावा किया कि मसूद को यूएन द्वारा वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने के मुद्दे में सकारात्मक प्रगति हुई है। हालांकि इस दौरान पेइचिंग ने अमेरिका पर भीजमकर निशाना साधा। चीन ने कहा कि अमेरिका सीधे सुरक्षा परिषद के समक्ष इस मामलें को उठाकर उसके प्रयासों को बर्बाद कर रहा है। चीन ने कहा कि ऐसा करके अमेरिका एक खराब उदाहरण पेश कर रहा है। उल्‍लेखनीय है कि सुरक्षा परिषद की 1267 अल कायदा प्रतिबंध समिति के तहत अजहर को सूचीबद्ध करने के फ्रांस के प्रस्ताव पर चीन के अड़ंगा लगाने के 2 हफ्ते बाद अमेरिका ने 27 मार्च को एक बड़ा कदम उठाया। अमेरिका ने अजहर को ब्लैकलिस्ट करने, उस पर यात्रा प्रतिबंध लगाने, उसकी संपत्ति की खरीद-बिक्री पर रोक और हथियार रखने पर रोक लगाने के लिए 15 देशों के शक्तिशाली परिषद में एक ड्राफ्ट पेश किया। चीन ने पिछले हफ्ते जैश सरगना को वैश्विक आतंकी के तौर पर सूचीबद्ध करने में बाधा डालने के अपने बार-बार के प्रयासों का बचाव करते हुए कहा कि अमेरिका के उस आरोप से इनकार किया कि उसकी कार्रवाई हिंसक इस्लामिक समूहों को प्रतिबंधों से बचाने जैसी है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने सोमवार को मीडिया ब्रीफिंग में कहा, ‘अजहर से संबंधित आवेदन को प्रस्तावित किए जाने (1267 समिति में) के बाद चीन विभिन्न पक्षों के साथ संपर्क एवं समन्वय स्‍थपित कर रहा है और इस मामलें में सकारात्मक प्रगति हुई है। गेंग ने कहा, ‘हां, अमेरिका बहुत अच्छे से यह जानता है।’ हालांकि उन्होंने इस बारे में ज्यादा कुछ नहीं कहा। गौरतलब है कि चीन इससे पहले चार बार इस कदम में रोड़े अटका चुका है। चीन ने 13 मार्च को 1267 अल कायदा प्रतिबंध समिति में अमेरिका, ब्रिटेन से समर्थित फ्रांस के एक प्रस्ताव को यह कहकर बाधित कर दिया था कि उसे मामले के अध्ययन के लिए और समय चाहिए। चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा था कि प्रस्ताव पर रोक यह ध्यान में रखते हुए भी लगाई गई थी कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद संबंधित पक्ष को बातचीत करने का समय मिल सके। भारत ने चीन की इस टिप्पणी को सकारात्मक संकेत के रूप के तौर पर माना है। हालांकि पाकिस्तान का कहना है कि उसे पुलवामा हमले और जैश में कोई लिंक नहीं मिला है और उसने भारत से और ज्यादा सबूत मांगे हैं। अब सोमवार को चीन की तरफ से पहली बार टिप्पणी की गई कि अजहर मुद्दे पर प्रगति हुई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर