भारतीय इंजी‌नियर को नहीं मिला एच-1बी वीजा, अमेरिकी सरकार पर किया केस

वॉशिंगटनः भारतीय इंजीनियर को एच-1बी वीजा जारी नहीं करने पर सिलिकॉन वैली की आईटी फर्म एक्सटेरा सॉल्यूशन ने अमेरिकी सरकार पर केस कर दिया है। भारतीय इंजीनियर प्रकाश चंद्र साई को एक कंपनी में बतौर बिजनेस सिस्टम एनालिस्ट के तौर पर रखा गया था। हालांकि, यूएस सिटिजनशिप एंड इमीग्रेशन सर्विसेज (यूएससीआईएस) ने उन्हें एच-1बी वीजा जारी नहीं किया।

एच-1बी वीजा जारी करने के लिए उपयुक्त नहीं

एक्सटेरा सॉल्यूशन ने दायर अपनी याचिका में कहा कि भारतीय इंजीनियर को सिर्फ इस आधार पर वीजा देने से इंकार कर दिया है। दरअसल भारतीय इंजीनियर को इस आधार पर वीजा देने से इंकार किया गया कि जो जॉब उन्हें दी जा रही है, वह एच-1बी वीजा जारी करने के लिए उपयुक्त नहीं है। वहीं कंपनी का कहना है कि यूएससीआईएस ने आपने फैसले को लेकर कोई ठोस तर्क नहीं दिए हैं। कंपनी ने यूएस डिस्ट्रिक्ट कोर्ट नार्दर्न कैलिफोर्निया से यूएससीआईएस के फैसले को खारिज करने की अपील की है।

प्रकाश चंद्र है एच-4 वीजा धारक

प्रकाश चंद्र साई पास फिलहाल एच-4 वीजा है। एच-1बी वीजा जारी करने के लिए एच-4 वीजा धारक को वरीयता दी जाती है। 2014 से 16 तक उनके पास एफ-1 अप्रवासी स्टेटस रहा था। पढ़ाई करने के लिए अमेरिका आने वाले युवाओं को इसी श्रेणी में रखा जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

उत्तर प्रदेश का बजट जनता की आकांक्षाओं के साथ छलावा : मायावती

नयी दिल्ली : बसपा की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार के बजट को जनता की अपेक्षाओं के साथ छलावा बताते हुए कहा आगे पढ़ें »

 गौतमबुद्धनगर के बिसरख इलाके में मुठभेड़ में छह बदमाशों को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया

लखनऊ : उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने गौतमबुद्धनगर के बिसरख क्षेत्र से मुठभेड़ में कपड़ा व्यवसायी की हत्या को अंजाम देने आगे पढ़ें »

ऊपर