नेपाली सैट-1 उपग्रह के प्रक्षेपण से नेपाल ने दी अंतरिक्ष में दस्तक

काठमांडू : प्रकृति की गोद में बसे भारत के पड़ोसी देश नेपाल का भी अंतरिक्ष में पहुंचने का सपना साकार हो गया।अमेरिका की मदद से गुरुवार सुबह उसने अपना पहला उपग्रह नेपाली सैट-1 अंतरिक्ष में प्रक्षेपित कर दिया।प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने इसकी पुष्टि की है।
नेपाल अंतरिक्ष युग में प्रवेश कर चुका है
ओली ने वैश्विक स्तर पर नेपाल के इस समूह में शामिल होने पर खुशी जतायी है। साथ ही उन्होंने इस उपलब्धि के लिये देश के पहले उपग्रह के निर्माण में शामिल सभी लोगों को धन्यवाद दिया है। ओली ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘हालांकि यह एक छोटी शुरुआत है और इस उपग्रह के प्रक्षेपण से नेपाल अंतरिक्ष युग में प्रवेश कर चुका है। मैं इस मिशन से जुड़े सभी लोगों, वैज्ञानिकों और संस्थाओं को धन्यवाद देना चाहता हूं।’’
उपग्रह का निर्माण दो नेपाली छात्रों ने किया
नेपाली विज्ञान और तकनीकी अकादमी (एनएएसटी) के प्रवक्ता सुरेश धुंगेल ने बताया कि उपग्रह जल्दी ही आंकड़ों को भेजने लगेगा और इन्हें प्राप्त करने के लिए एक ग्राउंड स्टेशन बनाया जा रहा है। वहीं नेपाली विज्ञान और तकनीकी अकादमी (एनएएसटी) के सूत्रों ने बताया कि इस शोध उपग्रह का नाम नेपालीसैट-1 है और इसे 02.31 बजे अमेरिका के वर्जीनिया स्थित नेशनल एयरोनाटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन से प्रक्षेपित किया गया है। नेपाली विज्ञान सूत्रों ने कहा इस उपग्रह का निर्माण जापान के क्युशू तकनीकी संस्थान में दो नेपाली छात्रों ने किया था।

बता दें कि नेपाल के दो युवा वैज्ञानिकों आभास मास्की और हरिराम श्रेष्ठ ने इस उपग्रह को बीआईआरडीएस (बर्डस) परियोजना के तहत तैयार किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टाला ब्रिज पर डायवर्सन के कारण 100 मिनी बसें चलाएगा परिवहन विभाग

वाहनों के डायवर्सन से यात्रियों को नहीं होगी समस्याः शुभेन्दु अधिकारी कोलकाताः टाला ब्रिज पर बस व भारी वाहनों की पाबंदी के बाद बड़े पैमाने पर आगे पढ़ें »

बीजीबी की कार्रवाई बेवजह, हमने नहीं चलाई एक भी गोलीः बीएसएफ

मुर्शिदाबादः बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के जवानों ने बीएसएफ के जवान को लक्ष्य कर जानबूझकर चलायी थी गोली। यह मानना है सीमा पर तैनात बीएसएफ आगे पढ़ें »

ऊपर