नशीद बोले- 1988 की तरह दखल दे भारत

कोलंबो/माले : मालदीव के निर्वासित पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद ने एक तरफ चीन को अपने देश में जारी गतिरोध से दूर रहने को कहा है तो भारत से दखल की मांग की है। नशीद ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि भारत को सेना के दखल से मालदीव में मध्यस्थ की भूमिका अदा करनी चाहिए। नशीद का यह प्रस्ताव सीधे तौर पर चीन के लिए झटका है। हाल ही में चीन ने मालदीव में सैन्य दखल का विरोध करते हुए कहा था कि इस संकट को बातचीत के जरिए हल किया जाना चाहिए।
चीनी मीडिया ने भारत को चेताया चीन ने नशीद की भारत से मांग की ओर से संकेत करते हुए कहा था कि मालदीव में सैन्य दखल स्थिति को और बिगाड़ सकता है। मालदीव के मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को चीन का करीबी माना जाता है। सोमवार को उन्होंने देश में आपातकाल की घोषणा कर दी थी और सुप्रीम कोर्ट के दो शीर्ष जजों को गिरफ्तार करा लिया था। नशीद ने ट्वीट कर कहा, ‘आतंरिक तौर पर विवाद को निपटाने की बात कहना विद्रोह को और आगे बढ़ाना है, जिससे बड़ा उपद्रव हो सकता है। मालदीव के लोगों ने 1988 में भी भारत की सकारात्मक भूमिका को देखा है। वे आए संकट को हल किया और चले गए। भारत कब्जा जमाने वाला देश नहीं है, आजादी दिलाने वाला है। यही वजह है कि एक बार फिर से मालदीव भारत की ओर देख रहा है।’
1988 में भारत ने मालदीव में स्थापित की थी शांति
मालदीव में ऐसा ही संकट 1988 में भी पैदा हुआ था। तब तत्कालीन राष्ट्रपति और फिलहाल हिरासत में लिए गए अब्दुल गयूम ने तख्तापलट की कोशिशों के खिलाफ भारत से मदद मांगी थी। तब भारत ने अपने सैनिकों को भेजकर देश में उपद्रव के हालातों को काबू में किया था। स्थिति सामान्य होने के बाद भारतीय सैनिक स्वदेश लौट आए थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

momota

एनआरसी और कैब को थोपने नहीं देंगे : ममता

खड़गपुर : उपचुनाव में जीत के लिए खड़गपुर की जनता को धन्यवाद देने पहुंची मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दावा किया है कि एनआरसी और कैब आगे पढ़ें »

हावड़ा जूट मिल अनिश्चित समय के लिए बंद

हावड़ा : शिवपुर स्थित हावड़ा जूट मिल को अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया गया है। इस दिन सुबह मार्निंग शिफ्ट में काम करने आगे पढ़ें »

ऊपर