तंबाकू से कृत्रिम फेफड़ा बनाने की तैयारी में जुटे वैज्ञानिक

10 वर्ष में यह पद्धति चिकित्सा जगत में कदम रख सकता है

लंदन : आपने यह तो सुना होगा कि जहर ही जहर को काटता है, लेकिन क्या आप सोच सकते हैं कि दुनिया भर में जिस तम्बाकू को मुंह के कैंसर का मुख्य कारण बताया जाता है वहीं, तम्बाकू किसी को नया जीवन देने का जरिया भी बन सकता है? लेकिन, इस तकनीक को वैज्ञानिकों ने संभव कर दिखाया है। आने वाले सालों यही तम्‍बाकू कई लोगों का जीवन बचायेगा क्योंकि, वैज्ञानिक तम्बाकू से कृत्रिम फेफड़ा तैयार करने में लगे हैं।

ब्रिटेन के मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यूके स्टेम सेल फाउंडेशन के मुख्य वैज्ञानिक प्रोफसर ब्रेन्डॉन नोबल के हवाले से बताया कि तंबाकू से तैयार फेफड़े रोगियों में आसानी से प्रत्यारोपित किये जा सकेंगे और 10 साल के अंदर यह चिकित्सा जगत में कदम रख सकता है। प्रोफेसर नोबल का कहना है कि तंबाकू में कृत्रिम कोलेजन (रेशे एवं अजैविक लवण) विकसित करने का गुण है। कई प्रकार की प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद तंबाकू से प्रमुख अंतरकोशिकीय पदार्थ ‘कोलेजन’ विकसित करके कृत्रिम फेफड़ें बनायें जायेंगे। उनका कहना है कि अनुसंधानकर्ताओं ने तंबाकू की ऐसी पौध तैयार की है जिससे बड़ी मात्रा में कोलेजन प्राप्त किया जा सकता है और यह कोलेजन मानवीय शरीर में पाये जाने वाले कोलेजन से काफी मिलता-जुलता होगा।

ऐसा किया जाएगा प्रत्यारोपित

उन्होंने बताया कि तंबाकू से विकसित कोलेजन को एक प्रकार की स्याही में बदल कर उसे थ्रीडी प्रिंटर में डाला जायेगा और इसके बाद यह परत-दर परत जमकर मानवीय फेफड़े की प्रतिकृति तैयार करेगा। इसके बाद रोगी की त्वचा से एक प्रक्रिया के तहत कृत्रिम फेफड़े को स्वस्थ कोशिकाओं वाले फेफड़े में तब्दील किया जायेगा, जिसे रोगी विशेष में प्रत्यारोपित किया जा सके। बता दें कि अमेरिका की ‘यूनाइटेड थेरेपेटिक्स’ कंपनी द्वारा बनाए गए थ्रीडी प्रिंटर मानवीय त्वचा और रेटिना बनाने के उपयोग में लाये जा रहे हैं। प्रोफेसर नोबल की माने तो तम्‍बाकू से कृत्रिम फेफड़ा बनाने की प्रक्रिया फिलहाल शुरुआती अवस्था में है लेकिन वो दिन दूर नहीं जब फेफड़े के प्रत्यारोपण के लिए लंबा इंतजार खत्म हो जायेगा।


शेयर करें

मुख्य समाचार

नागरिकता कानून के खिलाफ ममता की रैली, कहा- भाजपा पैसे देकर कराती है हिंसा

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपनी पार्टी के हजारों कार्यकर्ताओं के साथ सोमवार को कोलकाता की सड़कों पर उतरीं और पूरे देश आगे पढ़ें »

chauhan

असम में तैनात सेना की टुकड़ियां एक या दो दिन में बैरक में वापस आ जाएंगी: सेना कमांडर

कोलकाता : सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान ने सोमवार को कहा कि असम में ‌स्थिति तेजी से सुधर रही है। उन्होंने उम्मीद जताई आगे पढ़ें »

ऊपर