जलियांवाला बाग नरसंहार मामले में ब्रिटिश सरकार से माफी मांगने की मांग

लंदनः जलियांवाला बाग नरसंहार के शताब्दी वर्ष पर लंदन के ‘हाऊस ऑफ लार्ड्स’ परिसर में शनिवार को आयोजित एक कार्यक्रम में ब्रिटिश सरकार से माफी मांगने की मांग की गई।
गौरतलब है कि यह नरसंहार 13 अप्रैल 1919 को बैशाखी के दिन अमृतसर के जलियांवाला बाग में हुआ था। ब्रिटिश इंडियन आर्मी के सैनिकों ने जनरल डायर की कमान के तहत निहत्थी भीड़ पर गोलियां चलाई थी, जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए थे। ब्रिटिश संसद के सदस्य एवं भारतीय मूल के लार्ड राज लूंबा और जाने माने अर्थशास्त्री लार्ड मेघनाद देसाई ने जलियांवाला बाग सेनटेनरी कोमेमोरेशन कमेटी (जेबीसीसीसी) के साथ उनके साथी सदस्य ब्रिटेन में आयोजित कई प्रदर्शनियों में शामिल हुए, जिनका आयोजन इस नरसंहार के शताब्दी वर्ष पर किया गया था।
लोगों ने उठाए सवाल
लार्ड देसाई ने कहा, ‘‘13 अप्रैल 1919 का जलियांवाला नरसंहार आधुनिक इतिहास में एक बहुत दुखद घटना है। तब से सौ साल में भारत ने लंबा सफर तय किया है और इस तरह हमने कई बार अफसोस जताया जाना सुना है। ’’लार्ड लूंबा ने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता कि ब्रिटिश सरकार इस बाबत माफी मांगने के लिए सहमत क्यों नहीं हुई। उन्होंने इस बारे में जांच कराए जाने की मांग की कि क्या डायर ने खुद ही यह कदम उठाया था, या उसे ब्रिटिश शासन के उच्च स्तर से आदेश मिले थे।’’ कमेटी के संरक्षक प्रमुख मंजीत सिंह जीके ने कहा, ‘‘इसका दर्द पंजाबियों के मन में अब भी समाया हुआ है।’’ उन्होंने कहा कि इसे लेकर माफी मांगे जाने से मारा गया कोई व्यक्ति तो वापस नहीं आएगा, पर यह इससे मिली पीड़ा को कम जरूर करेगा। उन्होंने कहा, ‘‘हम यह मांग करते हैं कि ब्रिटिश सरकर एक आधिकारिक माफी मांगे।’’
गौरतलब है कि इस हफ्ते की शुरूआत में ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने ‘हाऊस ऑफ कॉमंस’ में एक बयान में इस घटना को लेकर गंभीर अफसोस जताया था। उन्होंने इसे ब्रिटिश भारतीय इतिहास पर एक शर्मनाक धब्बा बताया था। बहरहाल, इस सिलसिले में औपचारिक तौर पर माफी नहीं मांगने को लेकर सरकार की आलोचना भी हुई। विपक्षी लेबर पार्टी ने पूर्ण और स्पष्ट माफी मांगने की मांग की। ब्रिटिश भारतीय पत्रकार सतनाम संघीरा ने एक डॉक्यूमेंटरी के जरिए भी इस नरसंहार को लेकर माफी मांगने की मांग की है। यह मुद्दा हाल के महीनों में ब्रिटिश संसद के एजेंडा में भी प्रमुखता से पाया गया क्योंकि हाऊस ऑफ लार्ड्स और कॉमंस में इस घटना के शताब्दी वर्ष पर चर्चाएं हुई।

Leave a Comment

अन्य समाचार

जमात-ए-इस्लामी को कारण बताओ नोटिस जारी

श्रीनगर : केन्द्र द्वारा गठित गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) न्यायाधिकरण ने जमात-ए-इस्लामी जम्मू कश्मीर को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुये जबाव मांगा है कि उसे गैर कानूनी क्यों नहीं घोषित किया जा सकता है। इस संगठन पर सरकार ने [Read more...]

मोदी ने कहा-लाएंगे किसानों की तरह व्यापारी क्रेडिट कार्ड योजना

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में प्रधानमंत्री मोदी व्यापारियों के सम्मेलन को संबोधित करने पहुंचे। व्यापारी सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, देश को सोने की चिड़िया बनाने में व्यापारियों का बड़ा योगदान [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

जमात-ए-इस्लामी को कारण बताओ नोटिस जारी

मोदी ने कहा-लाएंगे किसानों की तरह व्यापारी क्रेडिट कार्ड योजना

भारत के सात खिलाड़ी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की शुरूआत से पहले काउंटी क्रिकेट खेलेंगे

चुनाव आयोग के प्रतिबंध के बाद योगी ने कहा- मेरे रग रग में राम

2021 तक शीतल पेय की प्रति व्यक्ति सालाना खपत होगी 84 बोतल: रिपोर्ट

‘ओवरटाइम को अनिवार्य करना जैक मा के घमंड की निशानी’

मोदी ने अडानी-अंबानी का काला धन सफेद करने के लिये 2000 के गुलाबी नोट चलाये : राहुल

nd-tiwari and son rohit tiwari

खुलासा : सामान्य नहीं थी एनडी तिवारी के बेटे रोहित की मौत

प्रियंका चतुर्वेदी ने कांग्रेस का छोड़ा हाथ, थामा शिवसेना का दामन

आप ने गठबंधन के लिए कांग्रेस को दिया आखिरी मौका

ऊपर