जलियांवाला बाग नरसंहार को ब्रिटेन की प्रधानमंत्री ने बताया धब्बा

लंदन: ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने 1919 के जलियांवाला बाग नरसंहार पर खेद जताया है। थेरेसा ने बुधवार को संसद के सामने कहा कि उन्हें इस घटना और इससे पैदा हुए कष्टों पर गहरा दुख है। हालांकि, इस दौरान उन्होंने एक भी बार माफी नहीं मांगी। इस पर संसद में विपक्ष के नेता जेरेमी कॉर्बिन ने थेरेसा से साफ, स्पष्ट और विस्तृत माफी मांगने के लिए कहा। 2010 से 2016 तक ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने भी 2013 में भारत दौरे पर इसे इतिहास की बेहद शर्मनाक घटना बताया था। हालांकि, उन्होंने भी माफी नहीं मांगी थी। इस शनिवार को जलियांवाला बाग कांड का सौवां साल मनाया जाएगा। 

मारे गए थे एक हजार से ज्यादा लोग

अमृतसर में 13 अप्रैल 1919 को हुए जलियांवाला बाग कांड में ब्रिटिश सैनिकों ने खुलेआम शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर गोलियां चला दी थीं। इस नरसंहार में 400 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों की मौत हुई थी। हालांकि, भारतीय अधिकारियों का दावा है कि इसमें 1000 से ज्यादा लोग मारे गए थे। मरने वालों में औरतें और बच्चे भी शामिल थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एसओजी ने गहलोत व पायलट को बयान देने के लिए जारी किया नोटिस

जयपुर : विधायकों को प्रलोभन देकर राज्य की निर्वाचित कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने के प्रयासों के आरोपों पर राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल (एसओजी) आगे पढ़ें »

लक्ष्य से चार वर्ष पहले बाघों की संख्या हुई दोगुनी, वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज : जावडेकर

नयी दिल्ली : केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने 'संकल्प से सिद्धि' के तहत बाघों की संख्या दोगुनी करने आगे पढ़ें »

ऊपर