जयशंकर ने इसलिए किया बहरेन का शुक्रिया अदा…

मनामा : विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कोरोना वायरस संकट के दौरान भारतीय समुदाय के लोगों का ‘विशेष ख्याल रखने’ के लिए बहरीन को धन्यवाद दिया है। बहरीन में 24 और 25 नवंबर की दो दिवसीय आधिकारिक यात्रा के दौरान जयशंकर ने अपने समकक्ष अब्दुल्लतीफ बिन रशीद अल जायनी के साथ द्विपक्षीय और साझा हित वाले क्षेत्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर भी बातचीत की।

जयशंकर ने बहरीन के प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा के निधन पर भारत सरकार और भारतीयों की ओर से श्रद्धांजलि भी दी। बता दें कि प्रिंस खलीफा का 11 नवंबर को निधन हो गया था। उन्होंने मंगलवार देर रात ट्वीट किया, ‘बहरीन यात्रा की शुरुआत में विदेश मंत्री डॉ अब्दुल्लतीफ बिन रशीद अल जायनी से मुलाकात की। पूर्व प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।’

क्षेत्रीय सहयोग पर जोर

जयशंकर ने कहा, ‘हमने ऐतिहासिक संबंधों और विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग पर चर्चा की। क्षेत्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर विचारों का आदान प्रदान हुआ। कोविड काल में भारतीय समुदाय के लोगों का विशेष ख्याल रखने के लिए बहरीन को धन्यवाद दिया।’ बता दें कि बहरीन में कोरोना वायरस से 85,800 लोग संक्रमित हो चुके हैं और 339 मरीजों की मौत हो चुकी है। बहरीन में करीब 3,50,000 भारतीय रहते हैं और यह बहरीन की कुल जनसंख्या का एक तिहाई है।

यूएई भी जाएंगे जयशंकर

जयशंकर अपनी कुल छ: दिवसीय यात्रा के दौरान बहरीन के अलावा संयुक्त अरब अमीरात और सेशेल्स भी जाएंगे। सूत्रों के अनुसार, यात्रा के दौरान जयशंकर यूएई में भारतीय कामगारों को वापस नौकरी देने के मुद्दे पर चर्चा करेंगे। विदेश मंत्री की यात्रा शुरू होने से पहले मंत्रालय की ओर से जारी वक्तव्य में कहा गया कि यूएई में तीन लाख से अधिक भारतीय रहते और काम करते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

beaten

ब्रेकिंग : तृणमूल कांग्रेस के बूथ सभापति की पीट-पीटकर हत्या

बर्दवान : मंगलकोट विधानसभा क्षेत्र के बूथ नंबर 197 में भाजपा समर्थित उपद्रवियों ने तृणमूल कांग्रेस के बूथ सभापति की पीट-पीटकर हत्या कर दी।घटना की आगे पढ़ें »

ममता बनर्जी पर तंज – बंगाल के लोग अब चप्पल नहीं जूते पहनना चाहते हैं

कोलकाता : बंगाल के भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी पर तंज कसते हुए कहा कि राज्य के लोग हवाई चप्पल नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर