चीन में पहली बार कोरोना का कोई घरेलू मामला सामने नहीं आया : एनएचसी

बीजिंग : चीन में गुरुवार को पहली बार ऐसा हुआ कि यहां संक्रमण का एक भी घरेलू मामला सामने नहीं आया। हालांकि, संक्रमण से 8 और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या 3,245 पर पहुंच गई। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने बताया कि बुधवार को चीनी भूभाग पर कोरोना वायरस का कोई घरेलू मामला सामने नहीं आया। चीनी भूभाग पर कोविड-19 के कुल 34 नए मामले सामने आए लेकिन ये सभी विदेशों से संक्रमण के मामले थे।

बता दें कि चीन के वुहान शहर में करीब तीन महीने पहले कोरोना वायरस के मामले सामने आए थे, जिसकी चपेट में आज पूरी दुनिया आ चुकी है।

वुहान में भी कोई मामला सामने नहीं आया, कल 8 मौत
एनएससी ने बताया कि इन 34 नए आयातित मामलों में से 21 बीजिंग में, 9 ग्वांगडोंग प्रांत में, 2 शंघाई, एक हीलोंगजियांग प्रांत में तथा एक झेजियांग प्रांत में सामने आया। पिछले साल दिसंबर से ही कोरोना वायरस का दंश झेल रहे मध्य हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में भी बुधवार को एक भी मामला सामने नहीं आया जो इस जानलेवा विषाणु के खिलाफ शहर की महीनों लंबी लड़ाई में अहम बात है। हुबेई प्रांत के स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि वुहान और हुबेई में संक्रमित मामलों की कुल संख्या क्रमश: 50,005 और 67,800 रही। सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने बताया कि बुधवार को चीनी भूभाग पर 8 मौतें और 23 नए संदिग्ध मामले आए। सभी मौतें हुबेई प्रांत में हुई।

चीन में आयातित मामलों की संख्या बढ़कर 189 हुई
एनएचसी ने बताया कि चीन में आयातित मामलों की संख्या बढ़कर 189 हो गई है। चीन में कोविड-19 के कुल 80,928 मामलों की पुष्टि हुई है जिनमें से 3,245 लोगों की मौत हो गई और 70,420 मरीजों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई। एनएचसी ने यह भी बताया कि बुधवार तक हांगकांग में 4 मौत समेत 192 मामले, मकाऊ में 15 मामले तथा ताइवान में एक मौत समेत 100 मामले दर्ज किए गए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फ्रांस में चर्च पर हमला करने वाले के हाथ में थी कुरान

नीस (फ्रांस) : फ्रांस के शहर नीस में गुरुवार को एक गिरजाघर में लोगों पर चाकू से हमला करने वाले टूनीशियाई के हाथ में कुरान आगे पढ़ें »

चीन की चिन्ता बढ़ी, भारत-अमेरिका ने सुरक्षा परिषद के एजेंडे पर मिलकर काम करने पर सहमति जताई

वाशिंगटन: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के एजेंडे से जुड़े विषयों पर भारत और अमेरिका ने व्यापक बातचीत की और लोकतंत्र, बहुलवाद व नियम आधारित आगे पढ़ें »

ऊपर